Jansandesh online hindi news

अमेरिका ने उठाया उइगर मुसलमानों पर अत्याचार करने पर चीनी अधिकारियों के खिलाफ ये बड़ा कदम

वाॅशिंगटन। अमेरिका ने चीन पर बड़ा कदम उठाया है। उन्होंने चीन के शिनजियांग प्रांत के मुस्लिमों को हिरासत में रखने को लेकर चीनी अधिकारियों के वीजा पर प्रतिबंध लगा दिया है। आपको बताते जाए कि अमेरिका-चीन के रिश्ते पहले से ही ट्रेड वॉर की वजह से तनावपूर्ण बने हुए हैं। इस नए कदम से दोनों देशों
 | 
अमेरिका ने उठाया उइगर मुसलमानों पर अत्याचार करने पर चीनी अधिकारियों के खिलाफ ये बड़ा कदम

वाॅशिंगटन। अमेरिका ने चीन पर बड़ा कदम उठाया है। उन्होंने चीन के शिनजियांग प्रांत के मुस्लिमों को हिरासत में रखने को लेकर चीनी अधिकारियों के वीजा पर प्रतिबंध लगा दिया है। आपको बताते जाए कि अमेरिका-चीन के रिश्ते पहले से ही ट्रेड वॉर की वजह से तनावपूर्ण बने हुए हैं। इस नए कदम से दोनों देशों के बीच टकराव और बढ़ने की आशंका है। चीन ने अमेरिका के इस कदम की आलोचना की है।

अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने बताया कि उइगरों मुस्लिमों को डिटेंशन कैंप में रखने के लिए जिम्मेदार चीनी अधिकारियों और नेताओं के लिए वीजा बैन कर दिया है। इन अधिकारियों और नेताओं के परिवार के सदस्यों की यात्रा पर भी बैन लागू होगा।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने बताया कि चीनी सरकार ने उइगरों, कजाक, किर्गिज और मुस्लिम अल्पसंख्यक समूह के सदस्यों के खिलाफ कैंपेन छेड़ रखा है।

अमेरिका, चीन गणराज्य से शिनजियांग में मुस्लिमों के खिलाफ अत्याचार खत्म करने की मांग कर रहा है। इस दौरान अमेरिका-चीन के रिश्ते बेहद नाजुक दौर से गुजर रहे हैं और इसी सप्ताह वॉशिंगटन में बीजिंग का एक कारोबारी प्रतिनिधि दल बातचीत के लिए पहुंचने वाला है। अमेरिकी अधिकारियों ने बताया कि नए प्रतिबंधों और वाणिज्य विभाग की कार्रवाई का व्यापार वार्ता से कोई लेना-देना नहीं है।

अमेरिका का अनुमान है कि चीन के शिनजियांग प्रांत में 10 लाख मुस्लिमों को हिरासत में रखा गया है। पिछले महीने भी अमेरिका के नेतृत्व में संयुक्त राष्ट्र महासभा में शिनजियांग प्रांत में मुस्लिमों के साथ बुरे बर्ताव की आलोचना की गई थी। चीन ने अमेरिका के इस कदम की आलोचना की है। चीनी दूतावास ने अमेरिका के चीनी अधिकारियों के वीजा पर बैन लगाने के कदम की निंदा करते हुए कहा कि चीन के शिनजियांग प्रांत के अल्पसंख्यकों का मुद्दा उसका आंतरिक मामला है और अमेरिका इस कदम के जरिए इसमें हस्तक्षेप करने का प्रयास कर रहा है।