Jansandesh online hindi news

कुर्दो के साथ संघर्ष विराम का तुर्की ने अमेरिका का प्रस्ताव ठुकराया

अंकारा। तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन ने सीरियाई कुर्द लड़ाकों के साथ संघर्ष विराम के लिए अपने अमेरिकी समकक्ष डोनाल्ड ट्रंप की पेशकश को ठुकरा दिया है, लेकिन वॉशिंगटन के साथ बातचीत जारी रखने को लेकर सहमति जताई है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, मंगलवार देर रात बाकू से अंकारा जाने के दौरान एर्दोगन
 | 
कुर्दो के साथ संघर्ष विराम का तुर्की ने अमेरिका का प्रस्ताव ठुकराया

अंकारा। तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन ने सीरियाई कुर्द लड़ाकों के साथ संघर्ष विराम के लिए अपने अमेरिकी समकक्ष डोनाल्ड ट्रंप की पेशकश को ठुकरा दिया है, लेकिन वॉशिंगटन के साथ बातचीत जारी रखने को लेकर सहमति जताई है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, मंगलवार देर रात बाकू से अंकारा जाने के दौरान एर्दोगन ने पत्रकारों को बताया कि ट्रंप के साथ फोन पर बातचीत में अमेरिकी राष्ट्रपति ने तुर्की और कुर्दिश पीपल्स प्रोटेक्शन यूनिट्स (वाईपीजी) के बीच सीरिया में संघर्ष विराम के लिए मध्यस्थता का प्रस्ताव रखा और इस पहल के लिए अंकारा में एक प्रतिनिधिमंडल भेजने का फैसला किया।

अमेरिकी उप राष्ट्रपति माइक पेंस की अगुवाई में प्रतिनिधिमंडल बुधवार को तुर्की पहुंचेगा। एर्दोगन ने कहा कि वह वाईपीजी के साथ संघर्ष विराम स्वीकार नहीं करेंगे।

तुर्की के चैनल एनटीवी ने एर्दोगन के हवाले से कहा, “मैंने राष्ट्रपति ट्रंप को बताया कि हम अन्य मुद्दो पर चर्चा करने से पहले संघर्ष विराम घोषित नहीं करेंगे..हम पहले एक डील करेंगे, उसके बाद ही हम संघर्ष विराम के बारे में बात करेंगे।”

कुर्दों को तुर्की ‘आतंकवादी’ मानता है और वह उत्तरी सीरिया में कुर्द बहुल इलाकों को निशाना बना रहा है।