Jansandesh online hindi news

रैपिड टेस्टिंग से कुछ ही हफ्तों में लगा सकते हैं कोरोना पर लगाम, कोलोराडो विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों का दावा

ह्यूस्टन, पीटीआइ। भले ही आरटी-पीसीआर की तुलना में एंटीजन टेस्ट कम प्रमाणिक हो लेकिन रैपिड टेस्टिंग में तेजी लाकर कोरोना महामारी को कुछ सप्ताह में ही खत्म किया जा सकता है। जर्नल ‘साइंस एडवांसेज’ में प्रकाशित शोध में कहा गया है कि इस तरह की रणनीति अपनाने से रेस्तरां, बार, रीटेल स्टोर और स्कूलों को बंद
 | 
रैपिड टेस्टिंग से कुछ ही हफ्तों में लगा सकते हैं कोरोना पर लगाम, कोलोराडो विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों का दावा

ह्यूस्‍टन, पीटीआइ। भले ही आरटी-पीसीआर की तुलना में एंटीजन टेस्ट कम प्रमाणिक हो लेकिन रैपिड टेस्टिंग में तेजी लाकर कोरोना महामारी को कुछ सप्ताह में ही खत्म किया जा सकता है। जर्नल ‘साइंस एडवांसेज’ में प्रकाशित शोध में कहा गया है कि इस तरह की रणनीति अपनाने से रेस्तरां, बार, रीटेल स्टोर और स्कूलों को बंद करने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। अमेरिका के कोलोराडो विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों सहित अन्य शोधकर्ताओं के मुताबिक विभिन्न प्रकार के कोरोना परीक्षणों की संवेदनशीलता का स्तर दुनियाभर में व्यापक रूप से भिन्न है।

रैपिड टेस्टिंग से कुछ ही हफ्तों में लगा सकते हैं कोरोना पर लगाम, कोलोराडो विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों का दावा
भले ही आरटी-पीसीआर की तुलना में एंटीजन टेस्ट कम प्रमाणिक माना जाता हो लेकिन वैज्ञानिकों का कहना है कि रैपिड टेस्टिंग में तेजी लाकर कोरोना महामारी को कुछ ही हफ्तों में ही खत्म किया जा सकता है। यह दावा जर्नल साइंस एडवांसेज में प्रकाशित शोध में किया गया है।

एंटीजन टेस्ट में रक्त में संबंधित एंटीबॉडी मिलने से व्यक्ति के कोरोना संक्रमित होने का संकेत मिलता है, जबकि आरटी-पीसीआर टेस्ट डीएनए पर आधारित विश्लेषण कर कोरोना की पुष्टि करता है, जिसमें शक की कोई गुंजाइश नहीं बचती है। इसे अंतिम और प्रमाणिक माना जाता है। आरटी-लैंप नाम का परीक्षण आरटी-पीसीआर की तुलना में 100 गुना अधिक वायरस का पता लगा सकता है। शोध के दौरान विज्ञानियों ने पाया कि संक्रमण पर रोक लगाने में कम प्रमाणिक तेज टेस्टिंग अधिक महत्वपूर्ण है।

शोधकर्ताओंका मानना है कि जिस तरह से दुनिया में कोरोना की नई लहर देखी जा रही है और संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ रहा है कोरोना टेस्टिंग की रणनीति में भी बदलाव करने की जरूरत है। इस बीच दुनिया में संक्रमितों का आंकड़ा 5.80 करोड़ के पार हो गया है। दुनियाभर में संक्रमण से अब तक 13.79 लाख से ज्‍यादा लोगों की मौत हुई है। अमेरिका कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। कोविड-19 के संक्रमितों और इससे मरने वालों की सख्‍यां के लिहाज से दुनिया में यह पहले स्थान पर है। अमेरिका में संक्रमण से अब तक 2,55,804 लोगों की मौत हो चुकी है।