Advertisements

प्रधानमंत्री ने व्यापारियों का दीवाला निकाल दियाः अखिलेश

प्रधानमंत्री ने व्यापारियों का दीवाला निकाल दियाः अखिलेश

 

मथुरा। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मोदी सरकार पर तीखे प्रहार करते हुए भाजपा को सबसे झूठी पार्टी करार दिया। उन्होंने कहा कि गरीबों की गरीबी दूर करने और उनके खातों में धन जमा करने के वादे कर नोटबंदी के बहाने छोटी से छोटी बचतें भी निकलवा ली गईं और फिर रही-सही कसर जीएसटी लागू कर पूरी कर दी गई। अखिलेश रविवार को यहां यादव समाज के एक ट्रस्ट द्वारा वृन्दावन में करोड़ों की लागत से बनाए जाने वाले बहुमंजिला ‘यादव भवन’ की आधारशिला रखने के लिए पहुंचे थे।

 
इस मौके पर संवाददाताओं से मुलाकात में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की मोदी एवं योगी सरकारों पर जमकर भड़ास निकाली। उन्होंने दोनों ही नेताओं को धोखेबाज करार दिया। उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री 15 दिन पहले ही दीवाली ला देने की बात कर रहे हैं। वे जरा व्यापारियों से तो जाकर पूछें कि उनके लिए दीवाली पहले आ गई या फिर दीवाली से काफी पहले ही उनका दीवाला निकल गया। रही बात गरीबों की, तो उसे तो न खील नजर आ रही है, और न ही बताशे। क्योंकि, उनसे उनका रोजगार ही छिन गया है। इस पर भी प्रधानमंत्री दीवाली जल्द ला देने की बात कहकर उल्टे उन्हें चिढ़ा रहे हैं।’ 
 
सपा नेता ने कहा, ‘जहां तक जीएसटी के मामलों में सुधार लाने की बात है तो प्रधानमंत्री अपने ही लोगों से आलोचना झेलने के बाद अब रोज समीक्षा के नाम पर छूटें देने की बात कर रहे हैं। अगर उन्हें जीएसटी की कमियां वास्तव में सुधारनी ही हैं तो व्यापारी जिन शिकायतों को शुरू से रखते आ रहे हैं उनका एक साथ ही निवारण क्यों नहीं कर देते।’ अखिलेश यादव ने मोदी सरकार से सवाल किया, ‘नोटबंदी से कौन सा और कितना भ्रष्टाचार कम हुआ है। इसका जवाब साल भर बाद भी नहीं दे पा रहे बीजेपी वाले।’ उन्होंने कहा, ‘सच तो यह है कि भ्रष्टाचार के जड़ से खात्मे की बात करने वाले उस पर लगाम लगाने में भी पूरी तरह विफल रहे हैं। इसके लिए मुख्यमंत्री के गृह जनपद का उदाहरण ही काफी है जहां कमीशन के चक्कर में टेण्डर लटके रहे और ऑक्सीजन के अभाव में कई बच्चों को जान गंवानी पड़ गई। यह सिलसिला अभी भी जारी है। क्योंकि अक्सर कहीं न कहीं से मरीजों के असामयिक मौत की खबरें आ ही रही हैं।’’
 
पूर्व मुख्यमंत्री ने प्रदेश में किसानों की कर्जमाफी पर तंज कसते हुए कहा, ‘कर्जमाफी के नाम पर किसानों को सरासर धोखा दिया जा रहा है। एक लाख रुपए की कर्जमाफी की बात कहकर एक-एक, दो-दो पैसे की कर्जमाफी की गई। यह किसानों के साथ खिलवाड़ नहीं तो फिर क्या है।’
 
उन्होंने गंगा-यमुना के शुद्धीकरण से जुड़ी भाजपा की योजनाओं पर उंगली उठाते आरोप लगाया, ‘वर्ष 2018 तक इन नदियों को आचमन योग्य पवित्रता दिलाने का दावा करने वालों ने कहीं भी धेला भर काम नहीं किया। मथुरा-वृन्दावन सहित अनेक स्थानों पर तो स्थिति और भी बदतर हो गई है।’ मोदी सरकार के डिजिटल इण्डिया कार्यक्रम पर अखिलेश ने कहा, ‘हमारी सरकार ने उत्तर प्रदेश में जितने लैपटॉप बांटे, उतने देश की किसी भी सरकार ने नहीं बांटे। राज्यों में जब भी डिजिटल इण्डिया की बात होगी, उत्तर प्रदेश सबसे आगे खड़ा दिखाई देगा। क्योंकि, यहां रिकॉर्ड 18 लाख लैपटॉप हमारे कार्यकाल के दौरान बांटे गए, वह भी अंतरराष्ट्रीय स्तर वाली कंपनी ‘एचपी’ के।’
 
उन्होंने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर चुटकी लेते हुए इसे पूरी तरह से फेल बताया। वह बोले- ‘हमने राज्य को विश्वस्तरीय पुलिस की त्वरित सहायता सेवा ‘यूपी 100’ का तोहफा दिया था। इसके काम करने के तरीके की प्रशंसा अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं ने भी दिख खोलकर की थी। लेकिन अब, योगी सरकार ने सब मिट्टी कर दिया। किसी भी शहर में यह सेवा सही प्रकार से चलती नजर नहीं आ रही।’
 
Advertisements
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.