पूर्व डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी ने कबूला ‘LoU जारी करने के बदले मिलती थी रिश्वत’

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

मुंबई : सीबीआई द्वारा शनिवार को पीएनबी घोटाले में गिरफ्तार किए गए पूर्व डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी ने पूछताछ के दौरान कबूल किया है कि उसे एलओयू (लेटर ऑफ अंडरटेकिंग) जारी करने के बदले रिश्वत मिलती थी। इसके साथ उसने कहा कि एलओयू के अमाउंट के आधार पर परसेंटेज भी फिक्स था।

इस मामले में गिरफ्तार आरोपी हेमंत भट पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी का अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता था। भट और कविता मानकिकर नीरव मोदी की कंपनियों की तरफ से खाता खोलने के लिए अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता थे। इसके साथ ही हेमंत भट, नीरव मोदी की 15 से 16 कंपनियों में डायरेक्टर भी है। शनिवार देर रात तक सीबीआई ने गिरफ्तार हुए तीनों आरोपियों से पूछताछ की।

इसी आधार पर पंजाब नेशनल बैंक से अहम दस्तावेज भी बरामद किए गए हैं। पूछताछ के दौरान शेट्टी ने अन्य बैंक अधिकारियों के शामिल होने की भी बात कही। इसके बाद ही सीबीआई ने इन अधिकारियों से पूछताछ करने की तैयारी में है। सीबीआई तीनों को मुंबई में पीएनबी की ब्रैंडी हाउस ब्रांच में लेकर गई।

1 बजे तक 45.86 फीसदी मतदान, CM माणिक सरकार और BJP अध्यक्ष ने डाला वोट

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ 11300 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने के मामले में सीबीआई ने शनिवार को तीन लोगों को गिरफ्तार किया था।  इन तीनों को 14 दिन की सीबीआई रिमांड में दिया गया है। जिसमे पीएनबी के पूर्व डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्ठी, मनोज खरात (पूर्व पीएनबी अधिकारी) और हेमंत भट्ट शामिल हैं।

बैंकों में मचा हड़कंप, एक और 5000 करोड़ बैंकिंग घोटाला, रोटोमैक मालिक विक्रम कोठारी फरार

इसके बाद ही प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को देशभर में 21 जगहों पर छापेमारी कर 25 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त की हैं। ईडी के प्रवक्ता अनिल रावल ने आईएएनएस को बताया था, “ईडी ने नीरव मोदी मामले में देशभर में 21 जगहों की तलाशी ली और 25 करोड़ रुपये मूल्य के हीरा, सोना, कीमती पत्थर और जेवरात जब्त किए। अब तक इस मामले में 5,674 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त की जा चुकी है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.