fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

PNB घोटालाः केंद्रीय एजेंसियों ने नीरव मोदी के खिलाफ जांच तेज की

नई दिल्लीः अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी व उसके मामा मेहुल चोकसी के खिलाफ कार्रवाई तेज करते हुए प्रवर्तन निदेशालय ने 22 करोड़ रुपए मूल्य के आभूषण जब्त किए हैं। वहीं आयकर विभाग ने सात संपत्तियों को कुर्क किया है तो सीबीआई ने उसकी कंपनी के चार वरिष्ठ अधिकारियों से पूछताछ की। केंद्रीय सतर्कता आयुक्त के वी चौधरी ने 11,400 करोड़ रुपए के धोखाधड़ी मामले में पीएनबी व वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की।

गीताजंलि जेम्स के पूर्व MD दावा: चौकसी ने नकली हीरे अधिक मूल्य पर बेचे

गीतांजलि समूह की 7 संपत्तिया जब्त
प्रवर्तन निदेशालय के मुखिया कर्नल सिंह भी पीएनबी धोखाधड़ी मामले में मनी लांड्रिंग निरोधक जांच के सिलसिले में मुंबई गए है जो कि इसी एजेंसी की विशेष टीम कर रही है। इस मामले में अब जब्त किए गए रत्न व आभूषणों का कुल मूल्य 5,671 करोड़ रुपए है। मामले की अनेक एजेंसियों द्वारा जांच के बीच आयकर विभाग ने मुंबई में गीतांजलि समूह व इसके प्रवर्तक मेहुल चोकसी की सात संपत्तिया जब्त की। प्रवर्तन निदेशालय ने नीरव मोदी के मुंबई स्थित आवास की तलाशी ली। पंजाब नेशनल बैंक के 11,400 करोड़ रुपए के कथित घोटाले के मामले में एजेंसी द्वारा धन शोधन के लिए की जा रही जांच के तहत पांचवे दिन भी छापेमारी जारी रही।

गिब्बस के मजाक पर अश्विन का “गुगली” जैसा जवाब

मोदी के घर पर छापेमारी
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि ईडी के अधिकारी नीरव मोदी के दक्षिणी मुंबई के वर्ली स्थित समुद्र महल बंगले पर पहुंचे और परिसर की तलाशी ली। जांच एजेंसी ने जांच के संबंध में मुंबई, पुणे, औरंगाबाद, ठाणे, कोलकाता, दिल्ली, लखनऊ, बेंगलुरु और सूरत समेत विभिन्न शहरों में 38 अन्य स्थानों पर भी छापा मारा। ईडी ने अबतक 5,694 करोड़ रुपए की कीमत के हीरे, स्वर्ण आभूषण और अन्य बेशकीमती रत्न जब्त किए हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘ ईडी द्वारा 15 फरवरी को छापेमारी शुरू किए जाने के बाद से अबतक कई कंप्यूटर उपकरण, हार्ड ड्राइव और दस्तावेजों को जब्त किया जा चुका है।’’

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।