Advertisements

यूपी खादी और अमेज़न का समझौता अविस्मरणीय रहेगा : सत्यदेव पचौरी 

अमेज़न इंडिया ने यूपी खादी एवं ग्राम उद्योग बोर्ड के साथ एमओयू साइन किया
और पढ़ें
1 of 372
लखनऊ। भारत में खरीदी और बिक्री के तरीके को बदलने के अपने दृष्टिकोण के अनुसार, अमेज़न इंडिया ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के खादी एवं ग्राम उद्योग बोर्ड के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए। गोमती नगर स्थित एक होटल में  यूपी खादी एवं ग्राम उद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी,मुख्य सचिव खादी नवनीत सहगल और अमेज़न इंडिया में बिक्री सेवाओं के निदेशक एवं महाप्रबंधक गोपाल पिल्लई के बीच एमओयू साइन किया गया। यूपी इन्वेस्टर समिट के ठीक पहले हुए इस समझौते को एक महत्वपूर्ण कदम माना जा रहा है।
इस पहल पर अपने विचार व्यक्त करते हुए उत्तर प्रदेश सरकार में खादी एवं ग्राम उद्योग के माननीय मंत्री सत्यदेव पचैरी ने कहा, ‘‘खादी भारत की पहचान है, जिसे विगत कुछ वर्षों में ग्राहकों से नई स्वीकार्यता मिली है। ऐसे कई बुनकर और कारीगर हैं, जो अपनी कुशलता से खादी को जीवंत करते हैं। हम मानते हैं कि इन कलाकारों के लिये ई-काॅमर्स सर्वश्रेष्ठ तरीका है, ताकि वह देश और विदेश में ग्राहकों तक पहुँच सकें। हम इन कारीगरों की डिजिटल यात्रा में अमेज़न के साथ भागीदारी कर प्रसन्न हैं, इससे उनकी पहुँच बढ़ेगी और रोजगार निर्मित होगा।
आॅनलाइन वाणिज्य क्षेत्र का यह उपक्रम सरकार की ‘डिजिटल इंडिया’ पहल को सहयोग देता है और हम इस यात्रा में अमेज़न को सहयोग प्रदान करते रहेंगे।’’ इस समझौते के तहत अमेज़न इंडिया गांवों में रहने वाले खादी कारीगरों को देशभर में खादी के ग्राहकों को सीधे अपने उत्पाद बेचने के लिए शिक्षित एवं प्रशिक्षित कर सक्षम बनायेगा। आॅनलाइन उत्पादों की सूची में खादी के शर्ट, कुर्ते, धोती, टाॅवेल और स्वादिष्ट व्यंजन होंगे, जिनकी शहरों में भारी मांग व सामथ्र्य है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अनुसार टेक्सटाइल व एपरेल क्षेत्र ने क्रमशः और मिलियन भारतीयों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार दिया है और यह कृषि के बाद दूसरा सबसे बड़ा रोजगार क्षेत्र बन गया है। इस कारण खादी अधिक महत्वपूर्ण क्षेत्र है।
प्राकृतिक और पर्यावरण हितैषी उत्पादों की ओर उन्मुख लोगों के कारण प्रकृति में अपघटनीय और जैविक उत्पादों की मांग बढ़ रही है। इस भागीदारी के माध्यम से अमेज़न इंडिया और उत्तर प्रदेश खादी एवं ग्राम उद्योग बोर्ड ग्रामीण लोगों को सशक्त करेंगे और उनके लिये रोजगार के अवसर निर्मित करेंगे और खादी एवं ग्राम उद्योग की अर्थव्यवस्था को विकसित करेंगे। खादी व्यवसायियों को डिजिटल कनेक्टिविटी देकर यह गठबंधन उन्हें भारत की बढ़ती डिजिटल अर्थव्यवस्था से जोड़कर लाभ पहुंचायेगा। उत्पादों को आॅनलाइन बेचने के विकल्प से ग्रामीण व्यवसायी अपनी पहुँच का विस्तार कर सकेंगे, उन्हें अपने उत्पादों का उचित मूल्य मिलेगा, जिससे उनका जीवन स्तर बेहतर होगा।
उत्तर प्रदेश की लगभग प्रतिशत ग्रामीण आबादी कृषि पर निर्भर है, जिनके लिये खादी आय बढ़ाने का एक अन्य स्रोत बन सकता है, क्योंकि इसमें उपलब्ध कच्चे माल का उपयोग होगा। अपनी योजना के हिस्से के तौर पर अमेज़न इंडिया ने खादी बोर्ड के साथ मिलकर अक्टूबर से कार्यशालाओं का आयोजन शुरू किया था, ताकि खादी सोसायटी और ग्राम उद्योगों को शिक्षित किया जा सके। यह कार्यशालाएं कानपुर, वाराणसी, गाजियाबाद और लखनऊ में आयोजित हुईं, जिनमें ई-मार्केटिंग और आॅनलाइन बिक्री का प्रशिक्षण दिया गया। अमेज़न इंडिया ने लगभग  सोसायटी के लिये कार्यशालाओं का आयोजन किया और कारीगरों को बाजार में प्रवेश दिया। इस भागीदारी के जरिये कई ग्रामीण कारीगरों को प्रभावित करने वाली 8 खादी सोसायटी वर्तमान में  अमेज़न पर सक्रिय हैं और  से अधिक उत्पाद प्रदर्शित कर रही हैं।
इस भागीदारी के विषय में उत्तर प्रदेश सरकार के खादी एवं ग्राम उद्योग बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और आईएएस अविनाश कृष्ण सिंह ने कहा, ‘‘खादी आधुनिक ग्राहकों के बीच लोकप्रिय हो रही है, इसलिये उनकी बदलती प्राथमिकताओं को समझना महत्वपूर्ण है। ई-काॅमर्स से उत्पादों में सुधार के लिये मदद मिलेगी। अमेज़न इंडिया के साथ इस भागीदारी के जरिये हम इन खादी सोसायटी और ग्राम उद्योगों को अधिकतम अवसर प्रदान करना चाहते हैं और उनकी वृद्धि में सहयोग देना चाहते हैं।’’
उत्तर प्रदेश सरकार के खादी एवं ग्राम उद्योग के प्रधान सचिव और आईएएस नवनीत सहगल ने कहा, ‘‘इस भागीदारी से हमारे उत्पादों को बड़ा ग्राहक आधार मिलेगा और बिक्री बढ़ेगी, जिससे हमारे ग्रामीण कारीगर प्रोत्साहित होंगे। अपने समृद्ध अनुभव और ग्राहकों की गहन समझ से अमज़ेन इंडिया इन प्रतिभावान कारीगरों और बुनकरों के जीवन में परिवर्तन ला सकता है, ताकि वह बढ़ती डिजिटल अर्थव्यवस्था से लाभान्वित हो सकें।’’
अमेज़न इंडिया में बिक्री सेवाओं के निदेशक एवं महाप्रबंधक गोपाल पिल्लई ने कहा, ‘‘भारत में खरीदी और बिक्री के तरीको के बदलने के हमारे दृष्टिकोण के अनुसार अमेज़न इंडिया ने अधिक से अधिक विक्रेताओं, बुनकरों और कलाकारों को आॅनलाइन बिक्री अपनाने और लाभ कमाने के लिये प्रेरित किया है। विगत कुछ वर्षों में बढ़ी खादी की मांग की पूर्ति करने के लिये हम उत्तर प्रदेश खादी एवं ग्राम उद्योग बोर्ड के साथ भागीदारी कर प्रसन्न हैं और इन उत्पादों को अमेज़न के लाखों ग्राहकों तक ले जाएंगे। खादी और ग्राम उद्योगों के विभिन्न उत्पादों के प्रशिक्षण, विपणन, बिक्री और आपूर्ति के जरिये हम इस राज्य के ग्रामीण कारीगरों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाएंगे। हम इस नई डिजिटल यात्रा में उन्हें व्यापक बिक्री सेवाओं और आवश्यक साधनों से सुसज्जित करने के लिए तत्पर हैं।’’
एक वर्ष की अवधि में अमेज़न इंडिया ने डीसी हैंडलूम, कपड़ा मंत्रालय, द ट्राइबल को-आॅपरेटिव मार्केटिंग डेवलपमेन्ट आॅफ इंडिया (टीआरआईएफईडी), तेलंगाना सरकार, नागालैंड सरकार, राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) और गुजरात आदिवासी विकास विभाग जैसे कई सरकारी निकायों के साथ भागीदारी की है, ताकि देश के कारीगरों और एसएमई की उन्नति के लिये सरकार के प्रयासों में सहयोग प्रदान किया जा सके। कंपनी ने विशेषीकृत प्रशिक्षण प्रारूप निर्मित किये, जमीनी स्तर के कर्मचारियों के साथ कार्यशालाओं का आयोजन किया और प्रशिक्षण संसाधन साझा किये, ताकि वह अपने व्यवसाय को आॅनलाइन शुरू कर सकें और उन्हें आगे बढ़ा सकें।
विक्रेताओं को प्रशिक्षित और पोषित करने पर लक्षित सेलर यूनिवर्सिटी, आॅनलाइन यात्रा में विक्रेताओं को सहयोग के लिये तृतीय पक्ष के वेंडरों का निकाय सर्विस प्रोवाइडर नेटवर्क और ईजी शिप जैसे कार्यक्रमों के जरिये लाॅजिस्टिक सहयोग जैसी प्रमुख पहलों से ।उं्रवदण्पद ने ऐसी कई गतिविधियाँ शुरू की हैं। कंपनी विक्रेताओं और छोटे उद्यमियों की विभिन्न व्यावसायिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये कार्य कर रही है, ताकि वह अपने व्यवसाय की आॅनलाइन वृद्धि कर सकें और लाभ अर्जित कर सकें।
खादी और ग्राम उद्योग के सर्वांगीण विकास के लिये उत्तर प्रदेश खादी एवं ग्राम उद्योग बोर्ड की स्थापना उत्तर प्रदेश खादी ग्राम उद्योग अधिनियम  के अंतर्गत एक सलाहकार निकाय के रूप में हुई थी। उसके बाद, ऊपर दिया गया कानून खादी ग्राम उद्योग बोर्ड कानून संख्या द्वारा संशोधित कर दिया गया जिसने बोर्ड को राज्य में खादी एवं ग्राम उद्योग की योजनाओं को लागू करने का अधिकार प्रदान किया। इस तरह, खादी एवं ग्राम उद्योग बोर्ड को एक स्वायत्त संस्थान का दर्जा दिया गया। खादी एवं ग्राम उद्योग का उद्देश्य कम पूंजी निवेश के साथ छोटे उद्योग स्थापित कर रोजगार के सर्वाधिक अवसरों का निर्माण करना और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सशक्त बनाना है।
Advertisements
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More

Privacy & Cookies Policy