Advertisements

चीन की दादागीरी के जवाब में भारत ने हिंद महासागर में उतारे 8 वॉरशिप

नयी दिल्ली. चीन के एक समाचार पोर्टल रॉयटर्स के हवाले से यह खबर आ रही है कि मालदीव में बढ़ते राजनीतिक संकट के बीच चीन ने 11 युद्धक जहाज पूर्वी हिन्द महासागर में उतार दिए है. इसके जवाब में भारत ने भी अपने 8 वॉरशिप को उतार दिया है.

रिपोर्ट के मुताबिक, चीन का 11 युद्धक जहाज पूर्वी हिन्द महासागर में इस महीने प्रवेश किया है. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने चीनी वेबसाइट के हवाले से ये खबर दी है. इस दौरान भारतीय नौसेना और चीनी नौसेना के बीच की दूरी काफी कम रह गई थी. यह एक्टिविटी ऐसे वक्त में सामने आई है जब मालदीव राजनीतिक संकट का सामना कर रहा है और देश में इमरजेंसी लगी हुई है.

आपको बता दें, कि अभी हाल फिलहाल में मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद ने भारत से राष्ट्र में राजनीतिक संकट के समाधान की के लिए सैन्य हस्तक्षेप कि बात कही थी.

वही चीनी साइट sina.com के अनुसार ये चीन के इन पोत में ऐसे पोत शामिल है जिस पर विमान, हेलिकॉप्टर उतरा जा सकता हैं. वही ये भी कहा कि अगर आप युद्धपोतों और अन्य मशीनों को देखेंगे तो भारत और चीन के नौसेना के बीच कि दूरी में कोई बड़ा अंतक नहीं है.

चीन के बढ़ते दबदबे का विरोध

गौरतलब है कि, भारत ने काफी लंबे समय से मालदीव के साथ करीब 400 किलोमीटर क्षेत्र के लिए राजनीतिक और सुरक्षा गठजोड़ किया है और इसने कीरब 4 लाख आबादी वाले मुस्लिम बहुल देश में चीन के बढ़ते दबदबे का विरोध किया है. वही इस महीने की शुरुआत में चीन ने अपने देश के नागरिकों को राजनीतिक तनाव खत्म न होने तक मालदीव की यात्रा न करने की चेतावनी दी थी जो अपने लक्जरी होटल, स्कूबा डाइविंग रिजॉर्ट और पारदर्शी उष्णकटिबंधीय समुद्र के लिए मशहूर है.

एमरजेंसी कि अवधि को बढ़ाया

मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्लाह यामीन को चीन के नजदीकी माना जाता है. उन्होंने 5 फरवरी को 15 दिन के लिए राष्ट्र में एमरजेंसी की घोषणा करते हुए विपक्ष के नेताओं और सुप्रीम कोर्ट के न्यायधिश को गिरफ्तार करवा दिया था.

वहीं देश कि मौजूदा व्यवस्था को देखते हुए सोमवार को इमरजेंसी के समय को ओर बढ़ाने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाया गया जिसमें चीन मालदीव में विदेशी दखल का विरोध कर रहा है. मालदीव के संसद ने राष्ट्रपति के अनुरोध को स्वीकार करते हुए. मंगलवार को एमरजेंसी कि अवधि को 30 दिनों के लिए ओर बढ़ा दिया गया हैं.

 

Advertisements
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.