इन तस्वीरों को देखने के बाद आप कहेंगे कि बच्चे इंसान के हो या जानवर के, होते बहुत प्यारे हैं

3

कहते हैं बच्चे भगवान का दूसरा रूप होते हैं. ये दिखने में बेहद प्यारे और मासूम लगते हैं. इन्हें देख कर ऐसा लगता है जैसे ये किसी नरम रुई से बने हो. यहाँ तक कि इनके नन्हे और कोमल अंगों को भी कईं बार हम छूने से डरते हैं. बच्चों को जरा सा छूने पर भी वह ख़ुशी से खिल उठते हैं और उन्हें देख कर ऐसा अनुभव होता है जैसे इनका भोलापन और मासूमियत सारी जिंदगी ऐसे ही बरकरार रहेगी. लेकिन समय के साथ साथ वह छोटे से बड़े होने लगते हैं. ऐसे में बहुत सारे बच्चे अच्छे बन जाते हैं और बहुत सारे बच्चे शैतान का रूप धारण कर लेते हैं.

89 लाख का मुख्य डाकघर में घोटाला, उप डाकपाल निलम्बित

इंसानों के बच्चों को तो आपने पैदा होने के बाद देखा ही होगा? पैदा होते ही वह गुलाब की पंखुड़ियों की तरह नाज़ुक से लगते  हैं. क्या आप जानते हैं कि बहुत सारे जानवरों के बच्चे जन्म के तुरंत बाद आँखें नहीं खोल पाते? क्यूंकि, उनकी त्वचा इतनी नाज़ुक होती है कि उन्हें आँखें खोलने में 5 से 10 दिन लग जाते हैं. आज के इस आर्टिकल में हम आपको जानवरों के बच्चों की कुछ तसवीरें दिखाने जा रहे हैं जो हमने उनके जन्म के तुरंत बाद खींची हैं. इन तस्वीरों को देख कर आप एक ही बात कहेंगे कि बच्चे इंसान के हो या फिर जानवर के, दोनों ही बेहद मासूम एवं प्यारे होते हैं.

अले मुझे पहचाना?

“अले दोस्तों आपने मुझे पहचाना नहीं क्या? मैं वही विशाल हाथी का प्यारा सा बच्चा हूँ जिससे आप सब डर कर दूर भागते हो”.

जरा बचके प्लीज़ 

“अरे सुनो! मैं दिखने में भले ही क्यूट हूँ मगर जब मैं काटता हूँ ना तो आदमी उठता नही बल्कि, उठ जाता है”.

ये है मेरा मकसद 

“मेरी प्यारी मौसी को सलमान भईया ने निपटा दिया था मगर अब मैं बड़ी होकर इतना तेज़ भागुंगी कि मुझे कोई पकड़ नहीं पाएगा. ”

खतरों का खिलाड़ी 

“मैं वहीं खतरों का खिलाड़ी हूँ जिसकी कहानी आप बचपन से पढ़ते आये हो. याद हैं ना मैं खरगोश भईया से कैसे जीता था?”

इतिहासक जीव  

“आपको पता मेरे दादा दादी डायनासोर थे? लेकिन अब अगर किसी ने उनकी फिल्म बनाई तो उसकी खैर नहीं”

आई लव मी

” सब लोग देखो मैं कितनी प्यारी हूं ना? अब नजर मत लगाना क्योंकि मैं अपनी फेवरेट हूं और बड़ी होकर भी इतनी ही प्यारी लगूंगी”.

लड़कियां मुझ पर मरती हैं

” अरे माना बिल्लियां क्यूट है लेकिन मैं तो अल्ट्रा क्यों हूं. मुझे तो इंटरनेशनल क्यूटनेस का अवार्ड मिलना चाहिए, आपको पता है हर लड़की मरती है मुझ पर”.

मम्मा कंप्लेन कहां है?

“अभी मैं छोटा हूं लेकिन कंप्लेन पी कर मैं मम्मी से भी लंबा हो जाऊंगा, तब बना बच्चों मेरे सामने!”

अच्छे से करो स्वागत

“अरे डरो मत अभी तो हम बहुत छोटे हैं और हमारे तो दूध के दांत भी नहीं आए. अभी तो हम प्यारे प्यारे बच्चे हैं”

राजा तो मैं ही बनूंगा

“अभी मैं छोटा हूं इसलिए मुझे नींद आ रही है थोड़ा आराम कर लूं फिर जल्दी बड़ा होकर मुझे सारा जंगल भी तो संभालना है ना!”

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।