fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

किशोरों की असल जिंदगी को प्रभावित कर रहा सोशल मीडिया, बिना वजह विवादों में फंस जाते हैं किशोर

लॉस एंजिलिस, सोशल मीडिया साइट का सबसे ज्यादा प्रभाव किशोरों पर देखने को मिलता है। अपना ज्यादातर समय इन साइटों पर बिताने वाले किशोरों को पता भी नहीं चलता कि यह कब उनके वास्तविक जीवन पर हावी हो गया। यह बात एक में सामने आई है।

shocked
shocked

अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के कर्ताओं की मानें तो इस कारण एक अलग तरह का डिजिटल विभाजन हो रहा है। प्रोफेसर कैंडाइस ऑडगर्स ने बताया, स्मार्टफोन बच्चों में हो रही दिक्कतों का सबसे बड़ा आईना है। कम आय वाले परिवार से आने वाले किशोरों के सोशल मीडिया पर अनुभव का असर उनके असल जीवन को सबसे अधिक प्रभावित करता है।

इस कारण कई बार वह बेमतलब की लड़ाई में फंस जाते हैं।12015 में हुए के अनुसार करीब 92 प्रतिशत गरीब किशोर इंटरनेट का प्रयोग कर रहे हैं और 65 फीसद के पास स्मार्टफोन है। वहीं, अच्छी कमाई वाले घरों के 97 प्रतिशत बच्चे इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे हैं और 69 फीसद के पास स्मार्टफोन है।

mediasocial

ऑडगर्स का कहना है कि सोशल मीडिया पर शोषण का शिकार हो सकने वाले किशोरों को उनके माता-पिता, स्कूल और अन्य संस्थानों से अतिरिक्त मदद दी जानी चाहिए।

आज ज्यादातर लोग डिजिटल युग का हिस्सा बनकर सोशल मीडिया के अवसरों का भरपूर प्रयोग कर रहे हैं, लेकिन जो भी बच्चे सोशल मीडिया में किसी तरह का संघर्ष कर रहे हैं उन्हें बाहरी दुनिया और परिवार की सलाह की ज्यादा जरूरत है।

Read More : इलेक्टोरल बांड के जरिए चंदा योजना कितनी हो पाएगी सफल ?

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।