fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

मॉर्डन हॉकी में रैंकिंग नहीं, प्रदर्शन मायने रखता है: रानी

नई दिल्ली , भारत को 13 साल बाद हॉकी एशिया कप का खिताब दिलाने वाली महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल का कहना है कि ‘मॉर्डन हॉकी’ में रैंकिंग नहीं, बल्कि प्रदर्शन मायने रखता है। कोरियाई दौरे से पहले रानी ने टीम के प्रशिक्षण और अन्य पहलुओं पर रोशनी डाली। वर्तमान में भारतीय महिला हॉकी टीम विश्व रैंकिंग में शीर्ष-10 टीमों की सूची में शामिल है।

रैंकिंग में बने रहना कितना मायने रखता है। इस बारे में रानी ने कहा कि सच कहा जाए, तो मॉर्डन हॉकी में रैंकिंग मायने नहीं रखती, प्रदर्शन मायने रखता है। जो जैसा खेलेगा, उसे वैसा परिणाम मिलेगा। अगर टीम अच्छा प्रदर्शन करती है, तो निश्चित तौर पर उसकी रैंकिंग भी सुधरती है।

हरियाणा के शाहबाद की निवासी रानी 2010 में विश्व कप खेलने वाली सबसे कम उम्र की भारतीय महिला खिलाड़ी बन गई थीं। रानी के पिता घोड़ा गाड़ी चलाते हैं। ऐसे में उनके लिए अपने सपने को पूरा करना आसान नहीं रहा। उन्हें ऐसे में टीम की अनुभवी खिलाडिय़ों और कोच ने काफी समर्थन दिया। बेंगलुरू में भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के केंद्र में जारी शिविर में अभ्यास कर रहीं रानी ने उच्च स्तरीय रैंक वाली टीमों के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान किसी प्रकार के दबाव के बारे में कहा कि नहीं हमें खुद पर विश्वास है।

हमें खुशी है कि हम टॉप-10 में आए हैं। शीर्ष-10 में जब आप पहुंच जाते हैं, तो आपका प्रशिक्षण उसी स्तर के तहत शुरू हो जाता है। रानी ने कहा  कि जब तक हम डरेंगे, तब तक हम सुधार नहीं कर सकते। ऐसे में हमें अपने से आगे रैंक वाली टीम के खिलाफ खेलते वक्त डरना नहीं है।

वर्तमान में सबसे अधिक मजबूत प्रतिद्वंद्वी टीम के बारे में रानी ने कहा कि कोरिया दौरे पर हम अभी जाएंगे, तो हमें काफी अनुभव और अवसर मिलेंगे। राष्ट्रमंडल खेलों में देखा जाए, तो सभी टीमें अच्छी और मजबूत हैं। हमें खुद पर ध्यान देना है और देखना है कि हमें जिस प्रकार की प्रशिक्षण किया है, उसे लागू कर सकें। ऐसे में हम दूसरी टीमों पर ध्यान न देके अपने खेल पर ध्यान देना है।

टीम में हाल ही में कई युवा खिलाड़ी शामिल हुई हैं। कोरियाई दौरे पर भी तीन नई खिलाड़ी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण करेंगी। ऐसे में खिलाडिय़ों के साथ तालमेल के बारे में कहा हमें खुशी है कि नई खिलाड़ी टीम में शामिल हुई है। जूनियर खिलाडिय़ों के लिए इस प्रकार के अवसर मायने रखते हैं। सभी खिलाडिय़ों के बीच तालमेल अच्छा है। आशा है कि हम कोरियाई दौरे पर अच्छा प्रदर्शन करें। ताकि टीम आत्मविश्वास के साथ राष्ट्रमंडल खेलों में प्रवेश करे।

खेलों इंडिया के बारे में रानी ने कहा कि भारत सरकार की ओर से उठाया गया यह काफी अच्छा कदम है। इस बार हमारे खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ स्वयं भी एक खिलाड़ी रह चुके हैं। वह जानते हैं कि किस प्रकार से प्रतिभा को ढूंढा जा सकता है।

इससे पहले जो खेल मंत्री थे, वे उस प्रकार से खेलों से जुड़े नहीं थे और शायद इसीलिए, वह उस एहसास के साथ काम नहीं कर सकते थे। रानी ने कहा कि अगर इस प्रकार की पहल पहले ही शुरू जाती, तो काफी कुछ हासिल किया जा सकता था। हालांकि, अब भी देरी नहीं हुई है। आने वाले 8-10 साल में हमें इस काम के सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।