Advertisements

इस शापित गांव में 150 साल से नहीं मनाया गया होली का पर्व, जानिये

एक बाबा के श्राप के चलते 150 वर्षों से इस गांव में होली का पर्व नहीं मनाया जाता।  हरियाणा के कैथल के गुहला  गांव के ही एक समाजसेवी नरैण शर्मा ने बताया कि वर्षों पहले गांव में स्थित एक ठिगने कद का बाबा रहता था और कुछ लोगों ने होली के दिन उसके कद को लेकर उसका मजाक उड़ा लिया था, नतीजतन अपने अपमान से क्रोधित बाबा उसी समय होली दहन के अवसर पर जिंदा दफन हो गया था।

holi-2-Reu
holi-2-Reu

क्रोधित बाबा मरने से पहले उसने लोगों को श्राप दे डाला था कि जो व्यक्ति आज के दिन होली का पर्व मनाएगा तो उसके परिवार का नाश हो जाएगा। परंतु जब लोगों ने बाबा की मान-मुव्वल की तो बाबा ने श्राप से मुक्ति का तरीका बताया।

बाबा ने कहा कि यदि होली वाले दिन गांव के किसी व्यक्ति की गाय को बछड़ा व महिला को लड़का एक साथ पैदा होगा तो सारा गांव श्राप से मुक्ति पा जाएगा, अन्यथा जो भी व्यक्ति इसका उल्लंघन करेगा, वह श्रापित होगा।शर्मा ने बताया कि उस दिन के बाद लोगों ने होली मनाना छोड़ दिया क्योंकि पिछले 150 सालों से ज्यादा का समय बीत जाने के बाद ऐसा संयोग ही नहीं बना कि गांव में किसी के यहां एक साथ गाय को बछड़ा व महिला को लड़का पैदा हुआ हो।

holi-2-Reu
holi-2-Reu

उन्होंने बताया कि जब भी किसी ने बाबा के श्राप की अनदेखी कर होली मनाने का प्रयास किया तो उसका काफी नुकसान हुआ। जिसके चलते लोग अब डरते हुए होली का पर्व ही नहीं मनाते। उन्होंने बताया कि इस बार लोगों को उम्मीद है कि शायद यह परम्परा टूट जाए। परंतु इस बार भी यदि कोई संयोग न बना तो फिर गांव का कोई भी व्यक्ति होली नहीं मनाएगा।

Read More : ये है मच्छर मारने का असली देशी जुगाड़, करेगा पूरे घर के मच्छरों का सफाया, जानिये कैसे बनेगा !

Advertisements
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.