fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

राष्ट्रमंडल खेल : 66 मेडल के साथ गोल्ड कोस्ट में खत्म हुआ भारत का सफर

आॅस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में हुए 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत ने शानदार प्रदर्शन के साथ अपना सफर खत्म किया। भारतीय खिलाड़ियों ने 26 स्वर्ण, 20 रजत और 20 कांस्य के साथ कुल 66 पदक जीते। इस तरह भारत पदक तालिका में आॅस्ट्रेलिया (80 गोल्ड, 58 सिल्वर, 59 ब्रॉन्ज= 197 मेडल्स) और इंग्लैंड (45 गोल्ड, 45 सिल्वर, 46 ब्रॉन्ज =136 मेडल्स) के बाद तीसरे स्थान पर रहा।
साल 2014 में स्कॉटलैंड के ग्लास्गो में हुए 20वें कॉमनवेल्थ गेस्म में भारत ने 15 स्वर्ण, 30 रजत और 19 कांस्य के साथ कुल 64 पदक जीते थे और पदक तालिका में इंग्लैंड, आॅस्ट्रेलिया, कनाडा और स्कॉटलैंड के बाद पांचवें स्थान पर रहा था। इस लिहाज से 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत का प्रदर्शन काफी शानदार कहा जा सकता है। भारत ने साल 2010 में दिल्ली में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में कुल 101 पदक जीते थे। वहीं साल 2002 में इंग्लैंड के मैनचेस्टर में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत के नाम कुल 69 पदक थे।

निशानेबाजी

भारत ने शूटिंग इवेंट में इस बार शानदार प्रदर्शन करते हुए 7 गोल्ड समेत कुल 16 मेडल जीते। अनीश भानवाला, मेहुली घोष और मनु भाकर जैसे युवा निशानेबाजों के अलावा हीना सिद्धू, जीतू राय और तेजस्विनी सावंत जैसे अनुभवी निशानेबाजों ने भारत के लिए पदक जीते। हालांकि, गगन नारंग के लिए यह कॉमनवेल्थ गेम्स भुलाने वाला रहा और वो कोई भी पदक नहीं जीत सके।

रेसलिंग

रेसलिंग में भी भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन शानदार रहा। भारत ने रेसलिंग में 5 गोल्ड, तीन सिल्वर और चार ब्रॉन्ज समेत कुल 12 मेडल्स अपने नाम किए। बजरंग पूनिया, विनेश फोगाट, साक्षी मलिक, सुमित जैसे पहलवानों ने अपने-अपने भारवर्ग में भारत को पदक दिलाए।

बैडमिंटन

बैडमिंटन में भारत ने इस बार कुल 6 पदक जीते। भारत ने मिक्स्ड टीम इवेंट में गोल्ड मेडल जीता, साथ ही महिला एकल में भी साइना नेहवाल ने हमवतन पीवी सिंधु को हराकर सोना अपने नाम किया। पुरुष एकल मुकाबले में भारत के किदांबी श्रीकांत को फाइनल में ओलिंपिक सिल्वर मेडलिस्ट मलयेशिया के ली चेंग वेई से हार का सामना करना पड़ा।

वेटलिफ्टिंग

भारत ने इस बार वेटलिफ्टिंग में कुल 9 पदक जीते। इसमें पांच गोल्ड, दो सिल्वर और दो ब्रॉन्ज मेडल्स शामिल हैं। भारत के लिए महिला वेटलिफ्टर्स मीराबाई चानू, संजीता चानू और पूनम यादव ने सोने का तमगा हासिल किया।

ऐथलेटिक्स

ऐथलेटिक्स में भारत को तीन पदक हासिल हुए। नीरज चोपड़ा ने जैवलिन थ्रो में भारत को गोल्ड मेडल दिलाया। वहीं सीमा पूनिया ने डिस्कस थ्रो में सिल्वर और नवदीप ढिल्लो ने ब्रॉन्ज जीता।

टेबल टेनिस

टेबल टेनिस में भारतीय महिला और पुरुष टीम ने गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया। इसके अलावा महिला एकल में मणिका बत्रा ने गोल्ड मेडल जीता। पुरुष युगल और महिला युगल मुकाबलों में भारत को सिल्वर मेडल मिला। अचंता शरत कमल ने पुरुष एकल में कांस्य पदक जीता।

बॉक्सिंग

बॉक्सिंग में भारत ने इस बार कुल 9 पदक जीते। इनमें तीन गोल्ड, तीन सिल्वर और तीन ब्रॉन्ज मेडल्स शामिल हैं। मैरी कॉम ने गोल्ड जीतकर दिखा गया कि उम्र प्रतिभा की मोहताज नहीं होती।

हॉकी

भारतीय हॉकी टीम के लिए सफर हालांकि अच्छा नहीं रहा। पुरुष और महिला दोनों ही हॉकी टीमें ब्रॉन्ज मेडल का अपना मुकाबला हार गईं और खाली हाथ देश लौंटी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।