Advertisements

डा. वेदांती ने कहा -राम मंदिर का निर्माण 6 Dec18. के बाद शुरू नहीं हुआ तो मैं अपना शरीर दूंगा त्याग

देवघर। राम जन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. रामदास वेदांती ने कहा कि अयोध्या में विवादित ढांचा मैंने ही ध्वस्त कराया था।

इस जुर्म में मुझे फांसी पर चढ़ना पड़े तो मुझे मंजूर है। वह शुक्रवार रात सहरजोरी(देवघर, झारखंड) में महारुद्र यज्ञ के समापन पर प्रवचन दे रहे थे। उन्होंने कहा कि छह दिसंबर, 2018 के बाद श्रीराम मंदिर का निर्माण प्रारंभ नहीं हुआ तो 14 अप्रैल, 2019 को अपना शरीर त्याग दूंगा।

उन्होंने कहा कि धर्मग्रंथों व अवशेषों से न्यायालय को पुख्ता प्रमाण मिल चुका है कि रामलला का जन्म वहीं हुआ था और वहां उनका भव्य मंदिर था। विवादित ढांचे में हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियां मिली हैं।

मुस्लिम समाज के लोग मानते हैं कि मस्जिद में हिंदू देवी-देवताओं की मूर्ति नहीं होती है। देश के 80 फीसद मुसलमान चाहते हैं कि राम मंदिर का निर्माण हो। मैं चाहता हूं कि राम मंदिर निर्माण में मुसलमान उदारवादी रवैया अपनाएं।

Advertisements
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.