Advertisements

यहां नौनिहालों की मौत की चीत्कार हर साल गर्मियों में गूंजती है एक Unknown-Disease से

मुजफ्फरपुर। हर साल गर्मियों में एक अज्ञात बीमारी बच्चों को निगलने लगती है। बुखार आने के साथ बच्चे बेसुध हो जाते और जांच व उचित चिकित्सा के पहले ही दम तोड़ देते हैं। केंद्र व राज्य सरकार के स्तर पर पुणे और दिल्ली के अलावा अमेरिका के अटलांटा में पीडित बच्चों के खून व नमूनों की जांच कराई गई, मगर बीमारी के कारणों का पता नहीं चला। नमूनों में कोई वायरस या सूक्ष्मजीवी नहीं मिला। बीमारी अज्ञात ही रह गई। हां, बारिश शुरू होते ही बीमारी खुद-ब-खुद गायब हो जाती है। इस बीमारी से हर साल मौत के आंकड़े भयावह होते हैं। साल 2012 में इससे यहां सर्वाधिक 120 मौतें हुईं थीं। इस साल भी गर्मी के आने के साथ एक मौत हो चुकी है।

मुजफ्फरपुर में 1990 से यह सिलसिला शुरू हुआ। 2010 में स्थिति गंभीर हुई तो डाटा रखने का काम शुरू हुआ। अब तो हर साल मई आते ही स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो जाता है। माताओं को भय सताने लगता है। बीमारी का पता लगाने के लिए एनसीडीसी (राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र) नई दिल्ली और एनआइवी (राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान) के विशेषज्ञों ने जांच की, लेकिन किसी वायरस का पता नहीं चला।

और पढ़ें
1 of 112

सीडीसी (सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन), अटलांटा में भी पीड़ित बच्चों के खून व अन्य नमूनों की जांच कराई गई, मगर कारणों का पता नहीं चल सका। तत्कालीन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन जून, 2014 में यहां आए। विशेषज्ञों से विमर्श के बाद उन्होंने इस बीमारी को कामचलाऊ नाम एईएस (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) दिया। पीडित बच्चों का इलाज लक्षणों पर आधारित कर दिया गया। इंसेफेलाइटिस से मिलते-जुलते लक्षण को लेकर इसे एईएस कहा गया, लेकिन इसका कोई एकरूप इलाज तय नहीं किया जा सका। अब भी अलग-अलग तरीके से इलाज हो रहा है।

स्थानीय अस्पताल में शिशु रोग विभागाध्यक्ष डॉ. ब्रजमोहन कहते हैं कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशा-निर्देश पर इलाज का प्रोटोकॉल बना। हालांकि पीड़ित बच्चों में हाइपोग्लाइसेमिया के लक्षण मिलने से अब ग्लूकोज व सोडियम की मात्रा नियंत्रित करने पर काम हो रहा है। डॉ ब्रजमोहन ने बताया कि कुछ बच्चों में हाइपोग्लाइसेमिया पाया जा रहा है, जिसमें शरीर में शुगर का लेवल कम हो जाता है, लेकिन अब तक किसी भी पीड़ित में इंसेफेलाइटिस का वायरस नहीं मिला। बहरहाल, अप्रैल से जून माह में होने वाली यह बीमारी अब भी अज्ञात बनी हुई है।

बीमारी के असली कारण तक पहुंचने के लिए जांच के नाम पर करोड़ों रुपये खर्च किए गए और किए जा रहे हैं। मगर, ठोस नतीजा नहीं आया। साख बचाने के लिए एजेंसियां अंधेरे में तीर चला विवाद को जन्म दे रही हैं। कभी लीची को बीमारी का कारण माना गया। कभी टॉक्सिन और अब जंक फूड की बात कही जा रही है। हर साल एक नया शिगूफा सामने आ जाता है। बीमारी के कारणों में अब गांव, गरीबी व गर्मी को भी शामिल कर लिया गया है। सूबे के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय कहते हैं कि बिहार सरकार बच्चों की बीमारी व उसके कारण को लेकर भारत सरकार व बड़ी एजेंसियां जांच कर रही हैं। अब तक कारण का पता नहीं चल सका है। फिलहाल इस बीमारी को लेकर स्वास्थ्य विभाग सचेत है।

Advertisements
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More