हक की राह पर 6 सैकड़ा शिक्षामित्रों की हो चुकी मौत

फर्रुखाबाद । आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन के द्वारा जिलाधिकारी को ज्ञापन सौपा गया। जिसमे कहा गया की पीएम मोदी की घोषणा के बाद भी अभी तक बाहर किये गये शिक्षा मित्रों को न्याय नही मिला। संगठन के जिलाध्यक्ष अनुराग पाण्डेय के नेतृत्व में शिक्षामित्र जिलाधिकारी मोनिका रानी से मिले। ज्ञापन में कहा गया है की यूपी प्राथमिक विधालयों में 1.70 लाख शिक्षा मित्र 17 वर्षों से कार्यरत थे।

Shiksha mitra

जिसमे से 1.37 लाख शिक्षामित्र को सहायक अध्यापक पद पर समायोजित किया गया था। सुप्रीम कोर्ट के 25 जुलाई 2017 कोआये फैसले से पूरी तरह से शिक्षामित्रों को बेरोजगार कर दिया। शिक्षामित्रों का परिवार भरन-भोषण के लिये परेशान है। जबकि इस सम्बन्ध में खुद पीएम मोदी ने घोषणा की थी। संगठन ने सीएम योगी को भेजे गये ज्ञापन में जल्द कोई ठोस कदम उठाने की मांग की गयी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.