fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

अब बीजेपी की नजरें कैराना उपचुनाव पर, ऐसे दर्ज करेगी बीजेपी जीत !

नई दिल्ली . कर्नाटक चुनाव के बाद अब बीजेपी की नजरें कैराना उपचुनाव पर हैं। 33 फीसदी मुस्लिम, 10 फीसदी जाट और 15 फीसदी दलित वोटर्स के साथ कैराना का चुनाव राष्ट्रीय लोक दल (RLD)- समाजवादी पार्टी (SP)- बहुजन समाज पार्टी (BSP) के लिए सम्मिलित रूप से काफी आसान दिख रहा है। हालांकि बीजेपी का कहना है कि उसने गोरखपुर और फूलपुर से सबक सीख लिया है और इस बार वह 28 मई को होनेवाले चुनाव में ज्यादा से ज्यादा मतदाताओं को मतदान केंद्रों तक लाने की कोशिश करेगी।

आगामी उपचुनाव में जाटों का वोट पलट सकता है। पश्चिमी यूपी में जाटों ने 2014 और 2017 के चुनावों में बीजेपी का समर्थन किया था लेकिन क्षेत्र में गन्ने का भारी बकाया है और RJD के अजित सिंह इस मुद्दे पर बीजेपी की समस्या बढ़ा सकते हैं। इसे भांपते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को क्षेत्र में अपनी पहली रैली में ही लोगों को यह भरोसा दिया कि अगर चीनी मिलें बकाए का भुगतान नहीं कर पाती हैं तो राज्य सरकार गन्ना किसानों के लिए पैकेज लेकर आएगी।

उधर, एसपी के समर्थन वाली RLD उम्मीदवार बेगम तबस्सुम हसन ने कहा है कि जाट बीजेपी से नाराज हैं। उन्होंने ET से कहा, ‘यह पहली बार होगा जब जाट, मुस्लिम और दलित मिलकर हमें वोट करेंगे। यहां कोई मुकाबला नहीं है। यह पहले हुए दंगे की कड़वाहट को समाप्त कर देगा।’

हालांकि बीजेपी के नेताओं ने कहा है कि एसपी और RLD साथ हैं इसलिए जाट मुसलमानों के साथ मिलकर वोट नहीं करेंगे, खासतौर से 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों के खूनी इतिहास को देखकर वह साथ नहीं जाएगा। सीएम आदित्यनाथ ने रविवार को भी यह पॉइंट रखा। उन्होंने कहा, ‘SP उम्मीदवार को लोन पर आरएलडी को दे सकती है लेकिन अखिलेश यादव के पास यहां आकर प्रचार करने का साहस नहीं है क्योंकि उनके हाथ में मुजफ्फरनगर दंगों का काला दाग लगा है। वह RLD के कंधे पर रखकर फायरिंग कर रहे हैं। इन दंगाइयों के झांसे में मत आइएगा।’

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।