fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री को भ्रष्टाचार के मामले में 10 साल की सजा

इस्‍लामाबाद । पाकिस्तान के अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में अाज एक अहम फैसला अाया है। नवाज शरीफ को एवेनफील्ड रेफरेंस केस में 10 साल की सजा सुनाई गई है। नवाज की बेटी मरियम को भी 7 साल की सजा सुनाई गई है। कोर्ट ने नवाज और मरियम पर क्रमशः 80 लाख पाउंड (करीब 73 करोड़ रुपये) और 20 लाख पाउंड (18.2 करोड़ रुपये) का जुर्माना भी लगाया है। कोर्ट के जज मोहम्मद बशीर ने नवाज के दामाद कैप्टन (रिटायर) सफदर को एक साल की सजा सुनाई है।

पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज शरीफ को यह सजा लंदन के एवियन फील्ड में 4 फ्लैट के मामले में मिली है। नवाज शरीफ और उनकी बेटी इस समय लंदन में ही हैं। पाकिस्तान की एकाउंटिबिलिटी कोर्ट ने नवाज शरीफ और उनकी बेटी को यह सजा सुनाई है।

कोर्ट के परिसर और आसपास सुरक्षा के सख्‍त इंतजाम किए गए हैं। परिसर की ओर जाने वाले रास्‍ते को भी बंद कर दिया गया है। साथ ही जिला प्रशासन ने राजधानी में धारा 144 लगा दिया है। मामले में जज मोहम्‍मद बशीर द्वारा किए जा रहे कार्यवाही से पहले वे नवाज के उस आग्रह को देखेंगे जिसमें उन्‍होंने कहा है कि अगले हफ्ते उनकी वापसी तक फैसले को स्‍थगित रखा जाए।

मंगलवार को कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखा था और इससे पहले आज के फैसले के दौरान सभी आरोपियों को कोर्ट में मौजूद रहने का आदेश दिया था। लंदन की एवेनफील्ड संपत्तियों पर सुनवाई कर रही जवाबदेही अदालत ने मंगलवार को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया और फैसले के ऐलान के लिए आज की तारीख निश्‍चित की। 14 जून से नवाज और मरियम लंदन में हैं। वहां कुलसुम नवाज का इलाज किया जा रहा है।

बुधवार को लंदन में नवाज ने मीडिया को संबोधित करते हुए आग्रह किया था कि फैसले को कुछ दिनों तक स्‍थगित ही रखा जाए क्‍योंकि वे इस दौरान कोर्ट में मौजूद रहना चाहते हैं। मामले में दोषी पाये जाने पर राष्‍ट्रीय जवाबदेही अध्‍यादेश 1999 के तहत मामला चलेगा जिसके अनुसार उन्‍हें अधिकतम 14 साल की कैद की सजा दी जाएगी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।