Advertisements

कभी गलती से ना करें इन 2 रंगों के कपड़े पहनकर पूजा, वरना भुगतना पड़ सकता है महादेव का गुस्सा

 धर्म. शास्त्रों के अनुसार लिखा गया है कि सुबह सुबह उठने के बाद नहा- धोकर  भगवान की पूजा करने से हमारे मन को शांति प्राप्त होती है. अपनी श्रद्धानुसार  सभी लोग अपने अपने देवी देवताओं की पूजा करते हैं. कुछ लोग ऐसे होते हैं जो कि अपने कष्टो को दूर करने के लिए भगवान की नित्य पूजा करते हैं तो कुछ लोग अपनी इच्छा को पूरी करने के लिए भगवान की रोजाना पूजा करते हैं,लोग पूजा करने तो बैठ जाते हैं परंतु वह पूजा के दौरान कुछ ऐसी गलतियां भी कर बैठते हैं जिससे फल  मिलने की जगह भगवान के पाप का भागी तक होना पड़ जाता है.
वराह पुराण के 217 अध्याय में  भगवान की नित्य पूजा करने के कुछ नियम बताए गये हैं जिनको पूजा करते वक्त ध्यान में जरुर रखना चाहिए.पूजा करते वक्त हमें बहुत सी सावधानियां अपने दिमाग में रखनी चाहिए, जब भी आप पूजा करने बैठें तो सबसे पहले अपने कपड़ों पर ध्यान देना चाहिए. पूजा करते समय कभी भी गलती से किसी भी व्यक्ति को नीले व काले वस्त्र  धारण नहीं करने चाहिए.
वराहपुराण लिखा है कि यदि आप किसी शव यात्रा में से आ रहे हैं तो कभी भी गलती से  बिना नहाएं भगवान की पूजा ना करें.
यदि आपक घर में किसी कारण से लड़ाई झगड़ा हो गया और आप गुस्से में हैं तो उस समय भगवान की पूजा करने के लिए ना बैठे. गुस्से में पूजा करने से भगवान नाराज हो जाते हैं.
रोजाना पंचदेव यानि की सूर्य, गणेश, दुर्गा, शिव और विष्णु की पूजा करने से समृद्धि प्राप्त होती है
यदि घर की लाइट चली गई है  या  फिर मंदिर में किसी कारणवश अधेरा है तो उस दौरान भगवान की मूर्ति को टच ना करें, अंधरे में भगवान की मूर्ति को छूना बेहद महापाप माना जाता है,
यदि पूजा करते दीपक जला रहे हैं तो ध्यान रखे पहले दीपक को धोएं फिर उसके बाद ही दीपक जलाएं.
Advertisements
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.