Jan Sandesh Online hindi news website

क्राइम कंट्रोलः अब यूपी 100 से जुड़ेंगे आपके मकानों और दुकानों में लगे सीसीटीवी, 24 घंटे पुलिस रखेगी नजर

लखनऊ । देश में बढते अपराध को देखते हुए पुलिस ने अब सीसीटीवी कैमरों के जरिये आपकेे आसपास घूमने वाले जिन संदिग्धों की गतिविधियों पर आपकी नजर नहीं पड़ती उन्हें अब यूपी पुलिस आसानी से देख लेगी। वारदात को अंजाम देने से पहले ही पहुंचकर उन्हें दबोच लेगी।

ये संभव होगा आपकी मदद से। दरअसल पुलिस प्रदेशभर के मकानों और दुकानों में लगे 20 लाख सीसीटीवी कैमरों को इंटरनेट के जरिए यूपी-100 मुख्यालय से जोड़ने की कवायद कर रही है। एसपी यूपी-100 मोहम्मद इमरान ने बताया कि इंटरनेट के माध्यम से कैमरों को जोड़ने का काम जल्द पूरा कर लिया जाएगा।

और पढ़ें
1 of 2,068

लखनऊ में प्रयोग के तौर पर अगले महीने तक इसकी शुरुआत की जा सकती है। कैमरों को यूपी-100 मुख्यालय से जोड़ने के लिए सिक्का केबल, माइक्रोसॉफ्ट और सभी केबल कंपनियों से समझौता किया जा रहा है। इसके लिए डेटा एनालिस्टिक सॉफ्टवेयर भी तैयार हो रहा है जो कैमरे की जद में आने वाल हर संदिग्ध गतिविधि को चिह्नित करेगा। एसपी मोहम्मद इमरान ने बताया कि कैमरों की कनेक्टिविटी के लिए दो तरीके अपनाए जाएंगे। स्मार्ट कैमरों का डेटा सिमकार्ड के माध्यम से क्लाउड पर लिया जाएगा।

लोगों के कैमरों घरों में लगे कैमर दूसरे माध्यम में फायरवॉल जैसे सॉफ्टवेयर की मदद से केबल से जोड़ा जाएगा। इसमें पुलिस अपना पासवर्ड डालेगी ताकी इसका डेटा केबल ऑपरेटर न देख सकें। उन्होंने बताया कि पब्लिक के कैमरों की कनेक्टिविटी के लिए उनकी सहमति ली जाएगी। जिन जगहों पर केबल नेटवर्क की सुविधा नहीं होगी वहां के लोगों को इंटरनेट का खर्च खुद उठाना पड़ेगा।

अपराध पर नियंत्रण रखने के लिए शुरू हो रही इस व्यवस्था से पहले प्रदेशभर में लगे कैमरों की जानकारी ली जा रही है। अब तक करीब 20 लाख कैमरे इस्तेमाल होते पाए गए हैं जिसमें करीब 70 हजार लखनऊ में लगे हैं। इसमें 280 कैमरे पुलिस के लगे हैं। इसके अलावा पांच हजार से ज्यादा कैमरे पुलिस के सहयोग से लोगों ने लगवाए हैं। मो. इमरान ने बताया कि इस व्यवस्था को प्रयोग के तौर पर पहले लखनऊ से शुरू किया जा रहा है जिसमें पुलिस के अलावा कुछ पब्लिक के कैमरों को जोड़ा जा रहा है।

तकनीकी दिक्कत को देखकर उसमें सुधार करने के बाद इसे प्रदेशभर में लागू किया जाएगा। एसपी मोहम्मद इमरान ने बताया कि इसके लिए तैयार हो रहे साफ्टवेयर में व्यक्ति की सामान्य हरकतों से इतर ऐसी गतिविधियों को संदिग्ध के तौर पर सुरक्षित किया जाएगा जो वारदात से पहले बदमाश करते हैं। उन्होंने बताया कि यूपी-100 मुख्यालय में अलग सेल बनेगा, जिसमें एक यूनिट 24 घंटे कैमरों की निगरानी करेगी। सॉफ्टवेयर को ऐसा बनाया जा रहा है कि कैमरे में किसी भी संदिग्ध गतिविधि देखते ही अलार्म बजेगा। अलार्म सुनाई देते ही नजदीकी पीआरवी वैन को वहां भेजा जाएगा।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed.