Jan Sandesh Online hindi news website

PM मोदी ने रिबन काटकर उत्तराखंड Investors Summit का किया उद्घाटन

देहरादून । देहरादून के रायपुर स्थित अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रिबन काटकर उत्तराखंड इन्वेस्टर्स समिट का उद्घाटन किया। इन्वेस्टर्स समिट को जापान के अंबेसडर, अदानी ग्रुप, अडानी ग्रुप, पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण, महिंद्रा ग्रुप के पवन कुमार, आईटीसी के संजीव पुरी ने समिट को संबोधित किया। उत्तराखंड में उद्योगों की संभावनाओं पर अपने विचार रखे।

इन्‍वेस्‍टर्स समिट, पीएम मोदी ,देहरादून,

इससे पहले पीएम मोदी वायुसेना के विशेष विमान से जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर पहुंचे। राज्यपाल बेबी रानी मौर्या, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह और पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूडी ने पीएम मोदी का स्वागत किया। इसके बाद पीएम मोदी वायुसेना के एमआइ-17 हेलीकॉप्टर से देहरादून के कार्यक्रम स्घ्थल अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम पहुंचे।

और पढ़ें
1 of 196

पीएम मोदी ने रिबन काटकर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। इसके बाद पीएम को उत्तराखंड की खूबसूरती की तस्वीरें दिखाई गई। वीडियो क्लीपिंग के जरिये पीएम को राज्घ्य में संभावनाएं बताई गईं। वन, पर्यटन, बागवानी, धर्म और संस्कृति के नजारे दिखाए गए। प्रदर्शनी देखने के दौरान पीएम मोदी ने फूड प्रोसेसिंग के स्टाल पर जानकारी ली। उद्घाटन के अवसर पर पारंपरिक मांगल गीत श्दैंणा हुंय्या, खोलि का गणेशा..श् की प्रस्तुति दी गई। यह प्रस्तुति देने वाले 30 कलाकारों का दल उत्तराखंड के पारंपरिक परिधानों में सजा हुआ था।

इन्‍वेस्‍टर्स समिट, पीएम मोदी ,देहरादून,

इन्वेस्टर्स समिट के उद्घाटन अवसर पर मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करते हुए कहा कि उन्हीं की सोच और प्रेरणा से आज यह आयोजन किया जा रहा है। मुख्य सचिव ने हिमालय और प्रकृति की गोद मे स्थित गंगा, यमुना, संतों, सूफियों और गुरुओं की धरती को तप भूमि बताते हुए कहा कि आदि गुरु शंकराचार्य, गुरु गोविंद सिंह जी, सूफी संत हजरत साबिर कलियारी, स्वामी विवेकानंद और महात्मा गांधी की तपोभूमि है। यहां के लोगों की उद्यमिता की वजह से ही युवा स्टार्टअप, महिला स्वयं सहायता समूह द्वारा निर्मित प्रसाद, सड़कों की मरम्मत, होम स्टे जैसी गतिविधियां चल रहीं हैं। विगत 18 वर्षों राज्य की प्रति व्यक्ति जीएसडीपी दस गुना बढ़कर 1.60 लाख रुपये हो गई है। रोड नेटवर्क 789 किलोमीटर प्रति 1000 वर्ग किलोमीटर हो गई है।

उन्होंने कहा कि विकास के साथ साथ यहां के लोगों ने प्रकृति के संरक्षण में भी योगदान दिया है। श्री सिंह ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि राज्य की अनूठी विशेषताओं का आकलन कर 12 क्षेत्रों को चिन्हित किया गया है। खाद्य प्रसंस्करण, पर्यटन एवं आतिथ्य, आयुष एवं वैलनेस, ऑटोमोबाइल और ऑटो उपकरण, फार्मास्युटिकल्स, नेचुरल फाइबर्स, हॉर्टिकल्चर एवं फ्लोरीकल्चर, जड़ी बूटी एवं सगंध पादप, आईटी, बायो टेक्नोलॉजी,नवीनीकरण ऊर्जा सेक्टर प्रमुख हैं।
इसके बाद निवेशकों को शार्ट वीडियो क्लीपिंग के जरिये उत्तराखंड की खूबसूरती दिखाई गई। यहां पूर्व में निवेश कर चुके निवेशकों ने अपने अनुभव शेयर किए। अमूल डेयरी के निदेश आरएस सोढ़ी ने समिट को संबोधित किया।

उत्तराखंड राज्य बनने के करीब 18 साल के वक्फे में पहली बार हो रहे इस इन्वेस्टर्स समिट की खास बात यह भी है कि दो दिन तक तमाम बिजनेस लीडर्स पूंजी निवेश की मौजूदा संभावनाओं को खंगालने के साथ में उद्योगों को मैदान से लेकर पहाड़ के गांवों तक पहुंचाने के भविष्य के दीर्घकालिक एजेंडे को भी तय करेंगे। यह भी पहली बार है कि राज्य सरकार ने 12 कोर सेक्टर पर फोकस करते हुए डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट और नए नियमों के जरिये उद्योगों को फूलने-फलने की आधार भूमि तैयार की है।कनफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्रीज के डायरेक्टर जनरल चंद्रजीत बनर्जी, अमूल डेयरी के आरएस सोंधी, मेदांता-द मेडिसिटी के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ नरेश त्रेहान, जापान के राजदूत केंजी हिरामत्सु व चेक रिपब्ल्कि के राजदूत मिलाना होवेरका, आदित्य बिरला ग्रुप के चेयरमैन कुमार मंगलम बिरला, महिंद्रा ग्रुप के आनंद महिंद्रा, टाटा संस के चेयरमैन नटराजन चंद्रसेकरन, बाबा रामदेव समेत कई नामी-गिरामी हस्तियां इन्वेस्टर्स समिट में शिरकत कर रही हैं। दो दिनी समिट में कुल 12 सत्र होंगे। यह मशक्कत कामयाब रही तो नए उद्योगों के साथ हजारों हाथों को रोजगार देने की सरकार की मुराद पूरी हो सकती है। उत्तराखंड में इन्वेस्टर्स समिट के आगाज के साथ बड़े पैमाने पर बुनियादी ढांचे के विकास, शहरों की सूरत बदलने की नई मुहिम समेत विभिन्न क्षेत्रों में पूंजी निवेश की दस्तक हो चुकी है। विभिन्न प्रदेशों में रोड शो, कॉन्क्लेव समेत उद्यमियों और पूंजी निवेशकों से मुलाकात और निरंतर संवाद के चलते करीब 80 हजार करोड़ के निवेश के प्रस्ताव राज्य सरकार को मिल चुके हैं। मोदी लहर के बूते प्रदेश में प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में आई सरकार को केंद्र के डबल इंजन का भरपूर सहयोग का नतीजा इन्वेस्टर्स समिट के रूप में सामने है।

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed.