Jan Sandesh Online hindi news website

राजधानी लखनऊ कभी त्योहारों की शान समझे जाने वाले मिट्टी के बर्तनों का व्यवसाय वर्तमान समय में संकट के दौर से गुजर रहा है

नए जमाने की हाईटेक टेक्नोलॉजी ने मिट्टी के बर्तन बनाने वाले कारीगरों के चाक को  रोक दिया दीपावली हो या करवा चौथ हो अथवा कोई अन्य त्यौहार  ये बर्तन तैयार करने वाले कारीगरों के चाक से बने बर्तनों के बिना पूरे नहीं होते कारीगर के हाथों से बने दीपक दीपावली में   दीपों की रोशनी देखकर दिल खुश हो जाता था लेकिन बदलते समय और हाईटेक टेक्नोलॉजी ने सभी को आकर्षित कर लिया जिसकी वजह से  बर्तन बनाने वाला कारीगर वर्तमान समय में उपेक्षा का दंश झेल रहा है l
राजधानी लखनऊ कभी त्योहारों की शान समझे जाने वाले  मिट्टी के बर्तनों का व्यवसाय वर्तमान  समय में संकट के दौर से गुजर रहा है
आज बाजार पहुंचने पर मिट्टी के  बर्तनों के बजाय दुकानों पर चाइनीज झालरों की चमक ने दीपों की रोशनी को ग्रहण लगा दिया सोसीर खेड़ा गांव निवासी  लक्ष्मीनारायण कुम्हार बताते हैं कि बाजार में मिट्टी के बर्तन खरीदने वाले कम ही रह गए हैं ज्यादा बनाने से फायदे ही क्या शहद से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक चाइनीज दीये की मांग दिन पर दिन बढ़ती जा रही है महीनों पहले  दिन-रात मेहनत करके भी वाजिब दाम नहीं मिलते और ना ही खरीददार महंगाई के चलते आज के समय में लोग  मिट्टी से बने बर्तन उतना पसंद नहीं करते  विदेशी कंपनियों में निर्मित बिजली से जलने वाले उपकरणों को हमारे भारत में उतार कर हजारों करोड़ रुपए कमाते हैं और हमारे यहां के होनहार कारीगर भुखमरी के कगार पर हैं l
मिट्टी के बर्तन बनाने वाले बुजुर्ग शिव राम बताते हैं कि अब वो समय गया जब लोग एक महीना पहले ही मिट्टी से बने दीप जलने लगते थे मोहल्लों में रौनक आ जाती थी और कुम्हारो में भी होड़ लगी रहती थी कि कौन कितनी कमाई करेगा लेकिन अब तो खरीदार ही नजर नहीं आते हैं मिट्टी के बर्तन बेचकर परिवार चलाने वाले रामबहादुर बताते हैं कि महंगाई की मार इस कदर पडी की मिट्टी भी इससे अछूते नहीं रही कच्चा माल भी महंगा हो गया दिन रात मेहनत करने के बावजूद हमें मजदूरी के रूप में 70 से ₹80 कमाई हो पाती है इससे परिवार का पालन पोषण करना मुश्किल  है मेहनत करने के बावजूद कुम्हार अपना पैतृक व्यवसाय बंद करने को मजबूर है क्योंकि इतने पैसों में परिवार चलाना मुश्किल सा हो गया है
मिट्टी के बर्तन बनाने वाले कारीगर भुखमरी के कगार पर है l
और पढ़ें
1 of 2,084
मिट्टी मिलना भी हो गया है मुश्किल
कुम्हार लक्ष्मी नारायण का कहना है कि अब तो मिट्टी मिलना भी मुश्किल हो गया क्योंकि खनन माफिया मिट्टी निकालकर तालाब बना देते हैं जिसकी वजह से बारिश में पानी भर जाने के कारण मिट्टी उपलब्ध नहीं हो पाती है  मिट्टी को बाहर से मंगाना पड़ता है जो कि काफी महंगी पड़ती है l
मिट्टी के बर्तन देखने के लिए तरसेंगे लोग
वह दिन दूर नहीं जब आने वाली पीढ़ी मिट्टी से बने बर्तनों को देखने के लिए तरसेंगे उनको मिट्टी के बर्तनों के बारे में पता ही नहीं होगा की मिट्टी के बर्तन कैसे देखते थे अगर हमें  अपनी पुरानी परंपराओं को जिंदा रखना है तो इस बार  दीपावली में मिट्टी के बर्तनों का उपयोग करें ताकि हमारी परंपराएं जीवित रह सके व पर्यावरण भी बचाया जा सके और बर्तन बनाने वाले कारीगरों को रोजगार मिल सके l
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed.