Advertisements

घर-घर दीप जलाना है,अंधेरों को मिटाना है

विवेक चौबे

पलामू-सीआरपीएफ के जवान दुर्गेश सिंह व उनकी टीम और युवा पलामू राकेश तिवारी के द्वारा आज उस घर में खुशियां प्रदान करने की प्रयास की गई, जहां दूर-दूर तक उजाला दिखाई नहीं देती, जहां आज हम 4G /3G की बात करते हैं डिजिटल इंडिया की बात करते हैं ,मगर हमारे बीच में कुछ ऐसे लोग भी हैं जो हर चीज से वंचित हैं ।

सरकार जितनी भी अध्यादेश लाती है, गरीब नीचे तबके के लोगों के लिए, मगर बड़े-बड़े लोग इसके फायदे उठाते हैं और मूलभूत सुविधाएं इन तक नहीं पहुंच पाती।दुर्गेश ने कहा कि हम इस खुशी भरी त्यौहार दीपावली में इन प्रजातियों के लोगों से मिले, जो कि समाज से कट कर रहते हैं। लोग इन्हें मुसहर प्रजाति के नाम से जानते हैं ।क्या वह इंसान नहीं है ।

हमने कभी सोचा है इन्हें अभी तक सुविधा क्यों नहीं मिली। क्या यह सुविधा लेना नहीं चाहते। लोग जगह-जगह शिविर लगाते हैं, लोगों को जागरूक करते हैं ,हम सरकार से और समाज में कुछ गणमान्य व्यक्ति हैं ,उनसे अपील करते हैं कि इन्हें भी जागरूक करें और इनके घर भी आए और खुशियां प्रदान करें ताकि इन्हें भी महसूस हो कि हम असहाय गरीब निर्धन और विभिन्न प्रकार के प्रजातियों से अलग नहीं हूं ।

अगले क्रम में दुर्गेश सिंह राकेश तिवारी अभिषेक तिवारी सोनू सिंह एस डी पाठक शशिकांत तिवारी बबलू सिंह दिव्यांशु कुमार सौरभ रोबिन कुमार विमलेश कुमार सभी युवाओं ने एक स्वर में कहा कि दीपावली हम उस पूर्व काल से मनाते हुए आ रहे हैं ।

जब श्री रामचंद्र जी रावण का वध कर अयोध्या को लौट रहे थे तो अयोध्यावासी इस खुशी में समस्त अयोध्या को दीप प्रज्वलित कर अपनी खुशी जाहिर की थी । दीपक हमें अंधेरे से उजाले की ओर अन्याय पर न्याय का जीत के लिए प्रेरणा देता है हमें दीपक से प्रेरणा लेनी चाहिए ।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।