fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

नही रहे बीजेपी के करिश्माई वरिष्ठ नेता अनंत कुमार

नई दिल्ली। केंद्रीय संसदीय कार्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अनंत कुमार का सोमवार सुबह लगभग 2 बजे निधन हो गया। अनंत कुमार कैंसर से पीड़ित थे और लंदन व न्यूयॉर्क में इलाज के बाद पिछले ही महीने उन्हें बेंगलुरू में भर्ती कराया गया था। उनका अंतिम संस्कार मंगलवार को किया जाएगा। अनंत कुमार के निधन के शोक में आज पूरे देश में तिरंगा आधा झुका रहेगा। अनंत कुमार को करिश्माई नेता माना जाता था। वह मोदी सरकार में संसद में फ्लोर मैनेजमेंट में माहिर थे। इसी वजह से पीएम मोदी ने उन्हें अपनी कैबिनेट में संसदीय कार्यमंत्री बनाया था।

अनंत कुमार दक्षिण के नेता थे, लेकिन वे दक्षिण सहित उत्तर भारत में भी सक्रिय और लोकप्रिय थे। उनकी लोकप्रियता का आलम यह था कि उन्होंने 2014 के लोकसभा चुनावों में उत्तर प्रदेश, बिहार में कई रैलियां कीं, इतना ही नहीं 2017 के उत्तर प्रदेश चुनावों में भी उन्होंने कई चुनावी रैलियां कीं और उनकी रैलियों में भीड़ देखते ही बनती थी। अनंत कुमार अपने छात्र जीवन से ही राजनीति में सक्रिय थे और कॉलेज के दिनों में ही छात्र संगठन एबीवीपी की सदस्यता ले ली थी। जब देश में इमरजेंसी लगी, तो अनंत कुमार इसका विरोध करने वाले प्रमुख नेताओं में थे। इसके लिए उन्हें जेल की सजा भी हुई थी।

अनंत कुमार कर्नाटक के बेंगलुरू दक्षिण से बीजेपी के उम्मीदवार थे। वे इस सीट से लगातार छह बार सांसद चुने गए। मोदी सरकार से पहले वे अटल बिहारी बाजेपयी के सरकार में भी कई जिम्मेदार पदों पर रहे। 1987 में वे कर्नाटक बीजेपी के सचिव बने। 1996 में बीजेपी ने पहली बार उन्हें बेंगलुरू दक्षिण से अपना उम्मीदवार बनाया, तब से लेकर 2014 तक तक लगातार वे इस सीट से सांसद चुने गए। अनंत कुमार अटल बिहारी बाजपेयी की सरकार में सबसे कम उम्र में कैबिनेट मंत्री बनने वाले नेता थे। उस समय वे उड्डयन मंत्री बनाए गए थे। अनंत कुमार बीजेपी के करिश्माई नेता थे। जब 2003 में बीजेपी ने उन्हें कर्नाटक में प्रदेश अध्यक्ष बनाया, तो पार्टी विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनी। वहीं 2004 में लोकसभा चुनाव में भी कर्नाटक में बीजेपी ने सबसे ज्यादा संसदीय सीटें जीती थीं।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।