fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

मिताली राज को टीम में शामिल ना करने के मामले पर COA ने मांगी सफाई

मुंबई । इंग्‍लैंड के खिलाफ महिला टी-20 विश्‍व कप के सेमीफाइनल में भारतीय टीम की सबसे अनुभवी बल्‍लेबाज मिताली राज को बाहर रखने का मामला तूल पकड़ गया है। इस अहम मुकाबले में शानदार लय में चल रही मिताली को बाहर बैठाने पर सवाल उठ रहे हैं। वहीं इस बात से खफा मिताली राज की मैनेजर अनीशा गुप्‍ता ने भी कप्‍तान हरमनप्रीत कौर की आलोचना की है। मिताली की मैनेजर अनीशा ने भारतीय कप्‍तान को अपरिपक्‍व, झूठी और चालाक बताया।

इस बढ़े विवाद के कारण भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को चला रही प्रशासकों की समिति (सीओए) ने टूर्नामेंट में मिताली के फिटनेस की जानकारी मांगी है। सीओए ने सेमीफाइनल मैच से पहले हुई चयन समिति की बैठक की जानकारी मीडिया में लीक होने पर चिंता भी जताई और इस मामले में बीसीसीआई के वरिष्ठ अधिकारियों सहित मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) राहुल जौहरी से भी स्पष्टीकरण की मांग की है।

इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए सेमीफाइनल मैच में टीम की सबसे अनुभवी बल्लेबाज मिताली को ही बेंच पर बैठाया गया। इस मैच में भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा। इस टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में घुटने की चोट के कारण मिताली बाहर थीं, लेकिन उससे पहले खेले गए दो मैचों में उन्होंने लगातार अर्धशतकीय पारियां खेली थीं। सेमीफाइनल मैच से एक दिन पहले उन्हें फिट घोषित कर दिया गया था। इसके बावजूद प्रबंधन ने उन्हें बेंच पर बैठाकर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जीत हासिल करने वाली अंतिम एकादश को बरकरार रखने का फैसला किया।

मिताली की मैनेजर अनीशा ने ट्वीट करके कहा कि भारतीय टीम राजनीति में विश्‍वास करती है न कि खेल में। असत्‍यापित अकांउट से किए गए इस ट्वीट में अनीशा ने कहा मिताली का अनुभव क्‍या कर सकता है, भारत और आयरलैंड के मैच में देखने के बाद भी टीम इंडिया ने हरमनप्रीत को खुश करने के लिए मन की करने दी। भारतीय महिला क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रमेश पोवार और प्रबंधक तृप्ति भट्टाचार्य इस मामले में सोमवार को सीओए और जौहरी से मुलाकात कर टी-20 विश्व कप में भारतीय टीम के प्रदर्शन की रिपोर्ट भी सौपेंगे।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।