fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

नोटबंदी के बाद अब डिजिटल करेंसी, कालेधन पर एक और चोट, मोदी सरकार की युद्धस्तर पर तैयारी

नई दिल्ली। नई दिल्ली। कालाधन समाप्त करने के लिए लगातार प्रयास कर रही मोदी सरकार नोटबंदी के बाद अब एक और बड़ा बदलाव लाने की योजना बना रही है। बहुत जल्द सरकार डिजिटल नोट जारी कर सकती है। इसके मद्देनजर आर्थिक मामलों के सचिव की अगुवाई में बनी कमेटी ने अपनी ड्राफ्ट रिपोर्ट में सिफारिश [...]

नई दिल्ली। नई दिल्ली। कालाधन समाप्त करने के लिए लगातार प्रयास कर रही मोदी सरकार नोटबंदी के बाद अब एक और बड़ा बदलाव लाने की योजना बना रही है। बहुत जल्द सरकार डिजिटल नोट जारी कर सकती है। इसके मद्देनजर आर्थिक मामलों के सचिव की अगुवाई में बनी कमेटी ने अपनी ड्राफ्ट रिपोर्ट में सिफारिश दी है। नोटबंदी के बाद अब केंद्र सरकार आर्थिक सुधार की दिशा में एक और बड़ा निर्णय ले सकती है. अगर सबकुछ ठीक चला तो सरकार कागज के नोट की तर्ज पर डिजिटल नोट शुरू कर सकती है. अगर सूत्रों की मानें तो इस दिशा में काम युद्धस्तर पर चल रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस संबंध में आर्थिक मामलों के सचिव के नेतृत्व में बनी समिति ने अपनी ड्राफ्ट रिपोर्ट केंद्र सरकार को दे दी है. कमेटी ने अपनी ड्राफ्ट रिपोर्ट में इस मसले पर महत्वपूर्ण सिफारिशें की हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार को डिजिटल नोट लॉन्च करने के पहले इस सम्बन्ध में गंभीरता से विचार करना चाहिए. सरकार को फिजिकल रुपये के साथ ही इलेक्ट्रॉनिक नोट भी शुरू करना चाहिए. इससे बिटकॉइन जैसी वर्चुअल करेंसी से निपटने में सरकार को सहायता मिलेगी. साथ ही रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि डिजिटल नोट जारी करने और सर्कुलेशन पर आरबीआई का पूरा कंट्रोल होना चाहिए। इस रिपोर्ट पर वित्त मंत्रालय जल्द ही आरबीआई के साथ बैठक करने वाला है और इसके बाद पीएमओ के साथ मिलकर इस पर बड़ा निणय लिया जा सकता है. दरअसल चलन में डिजिटल करेंसी के आने से भारतीय अर्थव्यवस्था में कई बदलाव आने की उम्मीद है. सबसे पहले इससे कालेधन पर लगाम लग जाएगी. साथ ही साथ मॉनिटरी पॉलिसी से लेकर कर्ज देने और मनी ट्रांजैक्शन के नियमों में भी बदलाव आएगा और सिस्टम में भी पारदर्शिता आएगी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।