fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

तहसील सिराथू की ग्राम बम्हरौली में ग्राम सभा की भूमि पर ,दबंगों द्वारा तांडव पीड़ित फरियाद को नहीं मिल सका न्याय

रिपोर्टर विकास कुमार गौतम

थाना कोखराज क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम बम्हरौली में राम लखन पुत्र बाबादीन रैदास लगभग 80 वर्ष उनकी पत्नी के नाम सरकार द्वारा शौचालय आवंटित किया गया है।

https://jansandeshonline.com/vid-20181206-wa0233-mp4/

जबकि अपने निकास के समीप शौचालय बनवा रहे थे । गांव के ही दबंगों ने इसका विरोध कर उनका शौचालय गिराकर दीवार उठा दिए हैं ।घर का निकास व बहाने वाला पानी को रोक दिया गया है ।

राम लखन पुत्र बाबादीन के मना करने पर हरिश्चंद्र व रामचंद्र पुत्र स्वर्गीय रजी लाल उर्फ जंग बहादुर व सुरेश पुत्र भूटान ने अपनी दबंगई के दम पर लेस होकर लाठी डंडा व फंर्सा लेकर आए ।और कहा कि इसके आगे कुछ किया तो तुमको और तुम्हारे परिवार वालों को जान से मार देंगे हम को किसी अधिकारी से डर नहीं है । जो होगा देख लेंगे जिस भूमि का विवाद है। उसका नंबर 18 53 ग्राम सभा 2016 व 2017 में लंगडी पत्नी हरिश्चंद्र को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत कॉलोनी प्राप्त की गई है ।

हरिश्चन्द्र पुत्र स्वर्गीय रजी लाल उर्फ जंग बहादुर ने ग्राम प्रधान व सुरेश पुत्र भूटान ग्राम सदस्य को सांठगांठ कर अपनी दबंगई से माकान बनवा कर कब्जा कर लिया है ।जो कि राजस्व विभाग के अभिलेखों में साफ जाहिर है। कि यह भूमि 18 53 नंबर लगभग 5 विस्वा ग्राम सभा है।किश आदेशा अनुसार यहां पर मकान बनवाया गया है ।यह देखने का विषय है ।

गरीब फरियाद अपनी फरियाद 1 दिसंबर थाना दिवस में प्रार्थना पत्र दिया दूसरा प्रार्थना पत्र तहसील दिवस सिराथू में दिया पर अभी पीड़ित फरियाद को अभी न्याय नहीं मिला है ।कमजोर व निहायत गरीब परिवार दहशत में है ।जिसका वीडियो व फोटो वायरल है ।इसका जिम्मेदार कौन है। हल्का लेखपाल मुमताज अहमद ने एसडीएम सिराथू ज्योति मौर्य के आदेशानुसार घटनास्थल पर आए और बिना कुछ बताएं देख कर चले गए।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।