Jan Sandesh Online hindi news website

पढ़िए आप 2018 का चर्चित Murder Case : जब मां ने अपनी बेटी के शव को चार घंटे तक टुकड़ो में कटती रही

देहरादून । देवभूमि की शांत वादियों में हुए मर्डर ने हर किसी के मन में खौफ भर दिया। इतना ही नहीं इस घटना के बाद पुलिस अधिकारियों की भी रूह कांप गई। इस खौफनाक हत्याकांड ने मां की ममता को भी तार-तार कर दिया।

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में एक सनसनीखेज कत्ल की वारदात हुई । यहां पर एक सौतेली मां अपनी सौतेली बेटी से इतनी नफरत करती थी कि अपनी बेटी के दो टुकड़े कर डाले और हत्या कर शव को तीन दिन तक बाथरूम में छुपाए रखा। ये घटना देहरादून के अंसारी रोड की है। अंसारी रोड निवासी इलाहाबाद हाईकोर्ट के न्यायाधीश रहे स्वर्गीय इंद्रपाल सिंह की पोती (24) अपनी सौतेली मां मीनू कौर के साथ रहती थी। सिंह के बेटे और प्राप्ति के पिता अजित सिंह की भी 2016 में मौत हो गई थी।

और पढ़ें
1 of 618

पुलिस के मुताबिक अक्सर दोनों मां-बेटी में किसी ना किसी बात को लेकर झगड़ा होता रहता था। आठ फरवरी को मीनू कौर ने पटेलनगर कोतवाली में गुमशुदगी दर्ज कराई थी कि सात फरवरी की सुबह वह बेटी प्राप्ति सिंह को दिल्ली के लिए आईएसबीटी पर बस में बैठाकर गई थी। रास्ते में दो बार बात भी हुई, मगर उसके बाद से प्राप्ति सिंह का कुछ नहीं पता। पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर रिश्तेदारों और पड़ोसियों से बात की तो मीनू कौर शक के दायरे में आई।

इस बीच आरोपी महिला बेटी की तलाश में आरोपी महिला डालनावाला स्थित एयर हॉस्टेल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट भी पहुंची और बेटी के बारे में जानकारी ली। महिला ने इस युवती का मर्डर करने के बाद उसका मोबाइल स्विच ऑफ कर दिया था।

पुलिस को शुरू से ही इस महिला पर शक था। मीनू कौर को पटेलनगर थाने लाकर बातचीत की गई तो उसने पुलिस को गुमराह करने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी। पुलिस ने जब महिला को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की उसने सच उगल दिया। इंस्पेक्टर पटेलनगर रितेश शाह मीनू कौर को लेकर कोठी पर पहुंचे, जहां बाथरूम के पीछे बनी गैलरी में छिपाई गई प्राप्ति सिंह की लाश बरामद करा दी।

आरोपी महिला ने अपनी बेटी प्राप्ति सिंह का शव दो टुकड़ों में कटा हुआ था। शव को चद्दर में लपेटने के साथ रस्सी में बांधा गया था। मौके से ही खून से सनी ईंट, खुखरी के अलावा खून से सना तकिया आदि सामान बरामद हो गया। हालांकि तीन दिन होने के कारण कमरे से पूरा खून साफ कर दिया गया था।सौतेली बेटी को लेकर मीनू कौर के दिल में कितनी नफरत थी, इसका अंदाजा कत्ल को अंजाम देने के तरीके से लगाया जा सकता था। पुलिस ने आस-पास के सीसीटीवी फुटेज को भी अपने कब्जे में ले लिया है।

जिस युवती का कत्ल हुआ वह एयर हॉस्टेस का कोर्स कर रही थी। घटना वाली रात 6 फरवरी को रात करीब 10 बजे मीनू का प्राप्ति से झगड़ा हुआ। इसके बाद वह प्राप्ति के सोने का इंतजार करने लगी। डेढ़ बजे के करीब सोते समय प्राप्ति की कनपटी पर ईंट से प्रहार किए। इसके बाद भी उसका जी नहीं भरा। आरोपी महिला ने खुखरी से बेटी के शव के दो टुकड़े किये ताकि लाश को ठिकाने लगाया जा सके। लाश को काटने में इस महिला को चार घंटे का वक्त लगा। हालांकि पूरी वारदात से वह इतनी डर गई कि बॉडी को बाहर नहीं ले जा सकी।

पुलिस के मुताबिक मीनू ने पूछताछ में बताया था कि शव के दो टुकड़े करने में सवा चार घंटे से अधिक का समय लगा, तब तक सुबह हो चुकी थी। शव के दोनों टुकड़ों को चद्दर में लपेटकर उसने खून से सना तकिया और अन्य चीजें भी रस्सी से चद्दर में ही बांध दीं। फिर बाथरूम के बराबर में बनी गैलरी में शव छिपाने के बाद कमरे और बाथरूम से खून साफ कर साक्ष्य मिटाने की कोशिश की। सात फरवरी की सुबह से ही मीनू कौर ने सामान्य रहने की कोशिश शुरू कर दी। आरोपी महिला ने कहा कि उसे अपनी सौतेली बेटी की हत्या पर कोई पछतावा नहीं है। उसने कहा कि इस लड़की की वजह से उसकी जिंदगी नर्क हो गई थी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed.