fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

बीजेपी रामलीला मैदान में पका रही है खिचड़ी, इस दांव से दलितों को साधेगी और बनेगा वल्र्ड रिकॉर्ड, जानें !

नई दिल्ली । बीजेपी जहां हिंदू वोटर्स को लुभाने के लिए राम मंदिर का मुद्दा गरम रखे हुए है, वहीं अब दलितों को लुभाने के लिए खिचड़ी का प्रोग्राम बना है. खिचड़ी को गरीबों का भोजन माना जाता है, उधर गरीबों से ही मांगकर बीजेपी खिचड़ी पका रही है. ऐसे में कोशिश है कि दलित वोटर्स का झुकाव पार्टी की ओर बढ़ाया जाए।

जिससे आने वाले लोकसभा चुनाव में पार्टी को फायदा मिल सके. भाजपा अपना एक सियासी दांव आज रविवार को रामलीला मैदान में आजमाने जा रही है। इस दांव के सहारे वह दलित वोट बैंक को अपनी राजनीति से जोड़ने के साथ ही वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बनाने जा रही है। भाजपा के इस आयोजन भीम महासंगम विजय संकल्प में 5000 किलोग्राम खिचड़ी बनाने की योजना है।

इस खिचड़ी को बनाने के लिए सारी तैयारियां हो चुकी हैं। खिचड़ी के लिए दलितों के घर से चावल और जरूरी सामान ले लिया गया है। दिल्ली भाजपा ईकाई के अध्यक्ष मनोज तिवारी भी आयोजन स्घ्थल पर पहुंच चुके हैं। वह भी इस समरसता की खिचड़ी बनाने में जुट गए हैं। नागपुर से शेफ विष्णु मनोहर को भीम महासम्मेलन में खिचड़ी बनाने के लिए आमंत्रित किया गया है। वे नागपुर में कुछ महीने पहले तीन हजार किलो खिचड़ी बनाने का रिकॉर्ड बना चुके हैं। वह अपनी टीम के साथ 20 फीट व्यास वाले और छह फीट गहरे बर्तन में खिचड़ी बनाएंगे।

भाजपा ने दावा किया है यह विश्व रिकार्ड होगा, क्योंकि इससे पहले नवंबर 2017 में दिल्ली के इंडिया गेट पर खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय के सहयोग से लगे वर्ल्ड फूड फेस्टिवल में शेफ संजीव कपूर ने 918.8 किलो खिचड़ी बनाकर यह रिकॉर्ड बनाया था। भाजपा नेताओं का कहना है कि घर-घर कार्यकर्ताओं के जाने से अनुसूचित जाति के लोगों को पार्टी के साथ जोड़ने में मदद मिल रही है। उन्हें नरेंद्र मोदी सरकार की नीतियों व जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दे रहे हैा। कार्यकर्ता लोगों को बता रहे हैं कि केंद्र सरकार ने अनुसूचित जाति व गरीबों के जीवन स्तर को उठाने के लिए किस तरह से काम कर रही है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।