Jan Sandesh Online ,Latest Hindi News Portal

डीएलए खबर पढ़ आईवी स्कूल के दो बच्चों ने किया ये नेक कार्य

अपनी पॉकेट मनी से खरीदे 11 कंबल-वास्तविक जरूरतमंदों को जगह जगह जाकर बांटे

रिपोर्टर रिहान अली

और पढ़ें

फ़िरोज़ाबाद-कल के डीएलए अंक में ये कैसा कंबल वितरण अभियान? देख जागरूक हुए आईवी स्कूल के दो 12th कॉमर्स के छात्र अर्द्धविक पाठक और विशाल यादव बीती रात डीएलए कार्यालय आये, और उक्त कंबल न मिल पाने वाली महिला के बारे में मदद को जानकारी ली लेकिन रात होने के कारण जा न सके। उन्होंने बताया घर से मिली पॉकेट मनी को बचाकर कुछ रुपये दोनो ने एकत्रित किये थे जिनसे 11 कंबल खरीदे हैं इन्हें कोई जरूरतमंद न रह जाए उन्हें देना है ।

उन्हें कुछ स्थान बताये गए जिस पर देर रात तक वे सिटी प्लाजा के पीछे वाली मार्केट में गली में बिना कंबल चादर के सोने वाले व्यक्ति को देखा तो उसे कम्बल ओढ़ाया। उसके बाद दूसरा व्यक्ति राज राजेश्वरी कैला देवी मंदिर वाले रोड पर जो आग जलाकर रात काटता था उड़े कंबल ओढ़ाया। रेलवे स्टेशन की तरफ एक दुकान में ठंड से ठिठुर रहे व्यक्ति को कंबल ओढाया। वहीं बस स्टैंड पर अंदर की तरफ एक व्यक्ति को कंबल ओढाया। इसी तरह शहर के कई स्थानों पर अलग अलग अपनी आंखों से देखे वास्तविक जरूरमंदों को ऊये 22 कम्बल बांट दिए। बाकी आगे फिर डीएलए की मदद से अन्य गरीबो को कम्बल बॉटने को तैयार हैं ।

1

पूछने पर बताया जब डीएलए की खबर देखी तो वास्तव में काफी दुःख हुआ कि कोई एक कम्बल के लिए भी कितना परेशान हो सकता है सोचा हर बार पॉकेट मनी यूं ही उड़ा देते हैं इससे क्यों न किसी की मदद की जाये तो शुरू कर दिया ये कार्य। वाकई डीएलए की खबर देख हमें ये प्रेरणा मिली कि ये जरूरी नहीं प्रशासन या सरकार कंबल दे तभी किसी की मदद हो हम सब कुछ न कुछ प्रयास कर किसी न किसी गरीब की मदद कर सकते हैं ।

इन दो लिटिल स्टार्स ने बड़े बड़ो को संदेश दे दिया खर्च तो हम सब कुछ न कुछ फिजूल करते हैं कुछ अच्छा किसी की मदद करने के लिए करें तो कितनी खुशी मिलेगी ये करने के बाद पता चलेगा ।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed.