fbpx
Advertisements
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal

सनसनीखेज हत्याकांड में फरार सपा के पूर्व सांसद आखिरकार पहुंच ही गए सलाखों पीछे

वाराणसी। वाराणसी में 2012 में हुए सनसनीखेज महेश जायसवाल हत्याकांड में वांछित चंदौली से सपा के पूर्व सांसद जवाहर जायसवाल आखिरकार सलाखों के पीछे पहुंच ही गए। अरसे से जांच एजेंसियों की आंख में धूल झोंक कर फरार चल रहे पूर्व सांसद को एसटीएफ ने मध्य प्रदेश के दमोह जिले से शनिवार को गिरफ्तार कर लिया। पूर्व सांसद पर चीनी मिल पर करोड़ों का लोन लेकर न चुकाने के मामले में धोखाधड़ी के आरोप में भी मुकदमा दर्ज है।

वे इस मामले में भी वांछित चल रहे थे।पूर्व सांसद के दमोह में छिपा होने की सूचना एसटीएफ की वाराणसी इकाई को मिली थी। इस पर एसटीएफ की एक टीम ने शनिवार को वहां पहुंच कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। एसटीएफ ने आरोपी को पहले दमोह पुलिस के पास दाखिल किया और फिर उसे वाराणसी ले आई।

एसटीएफ के एसएसपी अभिषेक सिंह ने बताया कि आरोपी को अदालत भी फरार घोषित कर चुकी है। महेश जायसवाल के सनसनीखेज हत्याकांड में 25 हजार रुपये का पुरस्कार भी घोषित हुआ था। बकौल एसएसपी एसटीएफ जवाहर जायसवाल महाराजगंज चीनी मिल प्रकरण में करोड़ों रुपये की बकाएदारी के मामले में भी वांछित था।वाराणसी के थाना कैंट इलाके में अर्दली बाजार निवासी महेश प्रसाद जायसवाल की 23 अप्रैल 2012 में सरे आम गोलियां चलाकर सनसनीखेज तरीके से हत्या कर दी गई थी।

उस समय महेश स्कूटर से सब्जी लेने के लिए निकला था। वापस लौटते समय उसे रेमंड के शो-रूम के सामने गोलियां मारी गई थीं। इस संबंध में वाराणसी के कैंट थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। इस हत्याकांड में वाराणसी के शातिर अपराधी रोहित सिंह उर्फ सनी और उसके साथियों का नाम प्रकाश में आया था।

रोहित सिंह को एसटीएफ 2016 में वाराणसी से हुई एक मुठभेड़ में मार चुकी है। अन्य अभियुक्तों के साथ बाद मे इस हत्याकांड में जवाहर जायसवाल व उसके बेटे गौरव जायसवाल का नाम प्रकाश में आया। इन दोनों की गिरफ्तारी पर 25-25 हजार रुपये का पुरस्कार घोषित किया गया था।जवाहर जायसवाल महराजगंज ठूंठीबारी में जेएचवी गडौरा शुगर मिल का मालिक है। इस मिल पर किसानों के गन्ने का करोड़ों रुपया बकाया चल रहा है।

इसका भुगतान न किए जाने के मामले में ठूंठीबार थाने में मुकदमा दर्ज हुआ था। इस मामले में महराजगंज के सीजेएम ने कुछ दिन पहले तीन जनवरी को जवाहर जायसवाल की गिरफ्तारी का वारंट भी जारी कर दिया था। जवाहर जायसवाल इस मामले में भी वांछित था।कक्षा आठ पास चर्चित शराब कारोबारी जवाहर जायसवाल पर पूर्व में वाराणसी के कैंट थाना क्षेत्र के सोयेपुर जहरीली शराब कांड में मुकदमा दर्ज हुआ था। कैंट थाने में जवाहर के खिलाफ हिस्ट्रीशीट भी खुली हुई है।

जानकारी मिली है कि 80 के दशक में जवाहर जायसवाल साइकिल और फिर बाइक से देशी शराब बेचता था। बाद में वह शराब के कारोबार में लिकर किंग कहलाने लगा था।कांग्रेस से जुड़ने के बाद 90 के दशक में उसने एक बार राजीव गांधी सरकार में हेलीकाप्टर खरीदने के लिए अर्जी दी थी। पर तकनीकि कारणों से उसकी मंशा पूरी नहीं हो सकी थी। उस समय वह कांग्रस का जिलाध्यक्ष था।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।