fbpx
jansandesh online,Hindi News, Latest Hindi news,online hindi news portal,hindi news,

भाजपा नेता का लॉकर देख हैरानी में पड़े आयकर अफसर , 72 लाख कैश, 3 किलो सोना, कई चौंकाने वाली बातें सामने आयी, पढ़े पूरी खबर !

देहरादून। भाजपा नेता अनिल गोयल और उनके कारोबारी सहयोगी गर्ग परिवार के स्थलों पर आयकर छापे की कार्रवाई दूसरे दिन भी जारी रही। दूसरे दिन आयकर की इन्वेस्टिगेशन विंग ने गोयल परिवार के प्रतिष्ठानों व अनय स्थानों पर अघोषित रूप से रखे गए करीब 72 लाख रुपये जब्त कर लिए। इसके अलावा गोयल व गर्ग परिवार के 11 लॉकर सील किए गए।

आयकर विभाग की इनवेस्टिगेशन से जुड़ी 13 टीमें शुक्रवार से लगातार भाजपा नेता अनिल गोयल और कई बिजनेस में उनके पार्टनर यमुनानगर के गर्ग परिवार के प्रतिष्ठानों पर रेड कर रही हैं। आयकर सूत्रों के मुताबिक, दो दिन की छानबीन में कई चैंकाने वाली बातें सामने आई हैं। अनिल गोयल के आवास से आयकर विभाग ने करीब 32 लाख रुपये बरामद किए हैं। उनके सभी प्रतिष्ठानों से आयकर विभाग ने करीब 70 लाख रुपये बरामद करते हुए सीज कर दिए हैं।

इसके अलावा अनिल के घर से तीन किलो सोने की ज्वैलरी, सात लॉकर का पता चला है। बताया जा रहा है कि इन सभी लॉकर में भी सोने के गहने ही हैं। अब आयकर विभाग की टीम अगले हफ्ते इन लॉकर की जांच करेगी। खबर लिखे जाने तक आयकर विभाग की जांच पड़ताल जारी थी।

सूत्रों के मुताबिक, जमीनों की खरीद की 300 से ज्यादा रजिस्ट्री के कागज पकड़ में आए हैं। अब इनमें यह देखा जा रहा है कि कुल कितनी जमीन खरीदी गई है। जमीन खरीद के लिए पैसा कहां से खर्च किया गया है। इसमें उमंग साड़ी, क्वांटम यूनिवर्सिटी के एमएमडी एजुकेशन एंड रिसर्च फाउंडेशन के अलावा महिंद्रा फाइनेंस लिमिटेड, क्वालिटी मार्ट प्राइवेट लिमिटेड, एलेक्सिया पैनल्स के नाम प्रमुख हैं। इसके अलावा उनके पार्टनर गर्ग परिवार के भी यमुनानगर में पंजाब प्लाइवुड, पंजाब प्लाई इंडस्ट्री, पंजाब पीनियर्स लिमिटेड के नाम से कंपनियां सामने आई हैं।

प्रधान निदेशक ने जानकारी दी कि गोयल परिवार के व्यापारिक प्रतिष्ठानों में अघोषित स्टॉक भी पकड़ा गया है। जिसमें देहरादून के गांधी रोड स्थित क्वालिटी हार्डवेयर प्रतिष्ठान में पांच करोड़ रुपये का स्टॉक रिकॉर्ड से अधिक पाया गया। जबकि, अभी इसी भवन में स्थित गोदाम में रखे स्टॉक का मिलान किया जा रहा है। देर रात तक जारी छापे की कार्रवाई चल रही थी।

टीम ने अभ तक सैकड़ों की संख्या में आय-व्यय, जमीनों की खरीद-फरोख्त, पेनी स्टॉक, विभिन्न कंपनियों से संबंधित दस्तावेज जब्त कर उनकी जांच शुरू कर दी है। गोयल परिवार ने कारोबार को आगे बढ़ाते हुए जितनी कंपनियां बनाई हैं, उनमें पैसा खपाने को भी बड़े इंतजाम किए थे। उनके बच्चे और पत्नियां सभी को कंपनियों में डायरेक्टर बनाया गया है।

गोयल परिवार की बहुएं वैसे तो गृहिणी हैं लेकिन उनके नाम से दस-दस लाख रुपये तक वेतन हर माह जारी किया जा रहा है। यह पैसा आगे इनवेस्ट किया जा रहा है। आयकर विभाग की टीम ने शुक्रवार को सुबह जैसे ही अनिल गोयल के घर व प्रतिष्ठानों पर छापेमारी की कार्रवाई शुरू की तो वह अनिल गोयल की तलाश में भी थे। उन्होंने परिजनों के मार्फत संपर्क किया। शुक्रवार को देरशाम अनिल गोयल आयकर विभाग की टीम के सामने आए। उनका मोबाइल देखकर विभाग के अधिकारी हैरत में पकड़ गए।

अनिल ने अपना मोबाइल फॉर्मेट कर दिया था। अब इस मोबाइल का पूरा डाटा रिकवर करने में आयकर विभाग के पसीने छूट रहे हैं। उन्हें शक है कि कुछ सुबूत छिपाने के लिए ही अनिल गोयल ने अपना मोबाइल फॉर्मेट किया। मामले में अनिल गोयल से उनका पक्ष जानने के लिए फोन किया गया लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया।

उन्हें एसएमएस भी किया गया लेकिन उनका कोई जवाब नहीं मिला। जब उनका पक्ष आएगा तो वह भी प्रकाशित किया जाएगा। आयकर विभाग की 13 टीमें सभी प्रतिष्ठानों पर कार्रवाई कर रही हैं। कई अहम बातें सामने आई हैं लेकिन अभी नहीं बताई जा सकती। जैसे ही इवेल्यूएशन पूरा हो जाएगा तो कुछ कहा जा सकेगा। अगर गोयल परिवार सहयोग करे तो ज्यादा आसानी होगी।
-अमरेंद्र कुमार, प्रधान निदेशक आयकर(जांच)

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।
%d bloggers like this: