Jan Sandesh Online ,Latest Hindi News Portal

कुशीनगर में मकर संक्रांति : स्नान-दान संग पडरौना शहर में पतंगों की उड़ान

पडरौना,कुशीनगर। धर्म-अध्यात्म के साथ पर्व-उत्सवों का हर रंग एकाकार किए पडरौना शहर अंदाज के लिए जाना जाता है। मकर संक्रांति के दिन भगवान भास्कर के साथ ही समस्त देवों के प्रति श्रद्धा-आस्था समर्पित करते हुए कुशीनगर जनपद वासी मन तीज-त्योहारों को पूरे मन से सजाता है। यह मकर संक्रांति के खास मौके पर भी नजर आता है। सूर्यदेव को जल-आराधना और दान के साथ ही लजीज खानपान और पूरा कुशीनगर जनपद के पडरौना शहर के युवा व बच्चे पतंगबाजी करने में जुड़ जाता है।
और पढ़ें
खिचड़ी और पतंगबाजी 
 पर्व-उत्सव की बात हो और इसमें खानपान की पंगत न जमे तो पडरौना शहर में युवाओं के साथ बच्चों का मूड कैसे बने। पूरी रात भले ही ढूंढा बनाने और पंट्टी के लिए गुड़ गलाने-जमाने में बीते मगर सुबह से ही किचन एक बार फिर खटर-पटर से गूंज जाता है। पूरी तरह घी में चुपड़ी पंचमेल दाल की खिचड़ी,दही,अचार, पापड़,सलाद के संयोग से सजी थाल देख जुबान से लेकर पेट तक तर हो जाता है। तिलवा -पंट्टी, गंट्टा-गजक, लाई-ढूंढा समेत खानपान का अंदाज भी इसकी रंगत को बढ़ाता है। हालांकि पडरौना नगर के महावीरी गली स्थित एक पतंग की दुकान खोल रखे हरी गुप्ता बताते हैं कि पिछले साल की अपेक्षा इस बार पतंग की बिक्री की नहीं है,पतंग की दुकान खोल रखे हरी गुप्ता कहते हैं कि मोबाइल इलेक्ट्रॉनिक और टीवी गेम के चलते पतंगबाजी करने वाले युवाओं की रियल में पतंग खरीद कर पतंगबाजी करने में दिलचस्पी नहीं है इसलिए इस बार बिक्री में कमी आई है |
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed.