Jan Sandesh Online hindi news website

 भोजन ठीक से नहीं चबाने पर हो सकता स्वास्थ्य में गडबड़ी 

लखनऊ। चेहरे की विकृति एक ऐसे विकृति है जिसे छुपाया नहीं जा सकता चेहरे की विकृति में दातों का अहम रोल है। यदि किसी व्यक्ति के दांत टेढे मेढे या बाहर की तरफ निकले हैं तो ऐसे व्यक्ति का चेहरा देखने में अच्छा नहीं लगता और ऐसे व्यक्ति को विभिन्न प्रकार की मानसिक प्रताड़नाओं का सामना भी करना पड़ता है। यह बात विश्व ऑर्थोडॉन्टिक स्वास्थ दिवस के अवसर पर केजीएमयू के ऑर्थोडोंटिक्स विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ प्रदीप टंडन ने कही ।
और पढ़ें
1 of 151
सही समय पर जाये ऑर्थोडॉन्टिस्टके पास 
वह खाना खाने पीने एवं बोलने में भी असहज महसूस करता है। इस प्रकार टेढ़े मेढ़े दांतों की समस्या को उचित समय पर चिकित्सक को दिखाया जाए और उसका उपचार कराया जाए तो इस समस्या से मरीज को निजात मिल जाता है किंतु अगर मरीज समय रहते चिकित्सक के पास नहीं आता है तो उसके दांतो को ठीक करना मुमकिन नहीं हो पाता है। इसलिए यह आवश्यक है कि मरीज उचित समय पर ऑर्थोडॉन्टिस्टके पास जाकर अपना उपचार करा ले।
मानसिक एवं शारीरिक विकास पर भी बाधा 
टेढ़े  मेढ़े दांत न सिर्फ मानव की सुंदरता पर असर डालते हैं बल्कि कई प्रकार की कठिनाइयां भी उत्पन्न कर देते हैं जैसे कि अव्यवस्थित दांतो की भली भांति सफाई नहीं हो पाती और उन में कीड़े लग जाते हैं और पायरिया हो जाता है। टेढ़े.मेढ़े या बाहर के निकले दांत बच्चे के मानसिक एवं शारीरिक विकास पर भी बाधा डालते हैं । अव्यवस्थित दातों के कारण जब बच्चे की उसके मित्रों एवं समाज द्वारा बार.बार उपेक्षा की जाती है, उसकी हंसी उड़ाई जाती है तो बच्चा हीन भावना से ग्रसित हो जाता है जिसका सीधा असर उसके मानसिक विकास पर पड़ता है ।
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed.