Jan Sandesh Online hindi news website

दिल के मरीजों के लिए ज्यादा खतरनाक तेज गर्मी, ऐसे करें बचाव

सभी लोग गर्मी से बेहाल हैं। दिनोंदिन पारा बढ़ रहा है और तेज गर्मी और धूप में लू लगने का खतरा अधिक रहता है। वैसे तो लू किसी को भी लग सकती है, लेकिन दिल के मरीजों के लिए यह कुछ ज्यादा ही खतरनाक साबित हो सकती है। इसलिए ऐसे लोगों को गर्मी में ज्यादा ध्यान से रहने की जरूरत होती है जो हार्ट संबंधी बीमारियों से ग्रस्त हैं।

डॉक्टरों के अनुसार, लू लगने की वजह से बॉडी डिहाइड्रेट हो जाती है यानी उसमें पानी की कमी हो जाती है। यही स्थिति नर्व्स यानी धमनियों में रिसाव और स्ट्रोक का कारण बन जाती है। सांस फूलने लगती है और हार्ट पर प्रेशर बढ़ जाता है। इसलिए हार्ट पेशेंट्स को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है।

और पढ़ें
1 of 6

हीटस्ट्रोक यानी लू से कैसे बचें:

  • धूप में निकलने से पहले अपने शरीर को अच्छी तरह से ढक लें और सूती व खुले कपड़े पहनें।

  • साथ में पानी, ग्लूकोज और नींबू रखें ताकि बीच-बीच में पीते रहें और बॉडी हाइड्रेट रहे। सत्तू का घोल, छाछ और दही भी हीट स्ट्रोक से बचाने में मदद करते हैं।

  • बेल का जूस भी हीट स्ट्रोक यानी लू से बचाने में फायदेमंद होता है। इसमें प्रोटीन, बीटा-कैरोटीन, थायमीन, राइबोफ्लेविन और विटामिन-सी होता है जो सेहत का ख्याल रखते हैं और लू से बचाते हैं। इसके अलावा यह हार्ट के लिए भी काफी फायदेमंद होता है।

  • ज्यादा टाइट और गहरे रंग के कपड़े न पहनें। खाली पेट बाहर न जाएं और ज्यादा देर भूखे रहने से बचें। दिल के मरीज इस मौसम में कुछ भी तला-भुना खाने से बचें और हेल्दी डायट लें।

  • धूप से बचने के लिए छाते का इस्तेमाल करें। इसके अलावा, सिर पर गीला कपड़ा या रुमाल रखकर चलें। चेहरे को भी कपड़े से ढक लें।

  • प्याज का जूस भी लू लगने से बचाता है। आयुर्वेद के अनुसार, लू लगने से बचाने में प्याज का जूस काफी मददगार है। बाहर निकलने से पहले या तो इसे शरीर के खुले हिस्सों पर लगा लें या फिर रोजाना एक चम्मच प्याज का जूस थोड़े से शहद के साथ मिलाकर पिएं।

  • गर्मी के मौसम में मिलने वाली अधिकांश सब्जियों की तासीर ठंडी होती है और ऐसी सब्जियों का सेवन ज्यादा से ज्यादा करें। जैसे टिंडी, लौकी, तोरी, कद्दू, खीरा, ककड़ी आदि। इसके अलावा आंवला, पुदीना, कच्चा प्याज भी भरपूर मात्रा में खाएं।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed.