Jan Sandesh Online hindi news website

चीन में मुसलमानों की मुश्किल बढ़ी, रोजा रखने पर भी पाबंदी

पेइचिंग। चीन में मुस्लिम उइगुर समुदाय के लोगों के रोजा रखने पर भी पाबंदी लगा रहे हैं। पहले से ही भारी दबाव में रह रहे मुसलमानों की मुश्किल रमजान के पवित्र महीने में और बढ़ गई है। चीन के अधिकारी अल्पसंख्यकवॉशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक मुसलमानों को सूर्यास्त से पहले खाने और पीने के लिए मजबूर किया जाता है जो रमजान में इस्लामिक नियमों के खिलाफ है।

इसके विरोध में आवाज उठाने वाले कार्यकर्ताओं का कहना है कि अगर वे ऐसा नहीं करते हैं तो उन्हें दंडित किए जाने का खतरा बना रहता है। म्यूनिख स्थित विश्व उइगुर कांग्रेस के अध्यक्ष डॉल्कुन इसा ने कहा, यह परेशान करने वाला और हमारी गौरवशाली परंपरा का अपमान है। उन्होंने बताया कि किस तरह से पश्चिमी चीनी क्षेत्र शिनजियांग में मुसलमानों द्वारा संचालित रेस्तरां को दिनभर खोलने के लिए मजबूर किया जाता है।

और पढ़ें
1 of 394

उइगुर कामगारों को सरकार द्वारा संचालित कार्यस्थलों पर लंच ब्रेक के दौरान खाने और पीने के लिए तंग किया जाता है। इतना सब कुछ होने के बाद भी मुस्लिम बहुल देश लगभग पूरी तरह से चुप्पी साधे हुए हैं। पश्चिमी देशों और अधिकार समूहों द्वारा आलोचना किए जाने के बाद भी अगर ऐसी शांति है तो साफ है कि यह उनकी नीति है जिसके कारण वह चीन को नाराज नहीं करना चाहते हैं। चीन को लेकर मुस्लिम जगत में ज्यादातर नैरेटिव सऊदी अरब के द्वारा सेट किया जाता है, जिसका आर्थिक और धार्मिक दबदबा है।

सऊदी के किंग मुसलमानों के दो पवित्र स्थलों के कस्टोडियन हैं। यह किंगडम मध्य पूर्व में एक अहम आर्थिक धुरी भी है और इसका तेल चीन के ग्रोथ में ईंधन का काम करता है। इसी महीने चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ फोन पर बातचीत के दौरान सऊदी अरब के किंग सलमान ने कहा कि किंगडम चीन के साथ हर स्तर पर आदान-प्रदान को मजबूत करना चाहता है।

उनके बेटे क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान इस साल जब चीन आए तो उन्होंने उइगुर मुसलमानों के साथ चीन द्वारा की जा रही ज्यादतियों पर ध्यान ही नहीं दिया। चीनी मीडिया ने शी से बातचीत में उनके हवाले से कहा, श्आतंकवाद निरोधक कार्रवाई और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिहाज से कट्टरपंथ रोकने के उपायों के चीन के अधिकारों का हम सम्मान और समर्थन करते हैं। पेंटागन के एक अधिकारी ने हाल में अनुमान लगाया था कि कम से कम 30 लाख उइगुर मुसलमानों को शिनजियांग में बड़े डिटेंशन कैंपों में रखा गया है। हालांकि चीन की सरकार का कहना है कि आतंकवाद को खत्म करने के लिए उन्हें व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्रों में रखा जा रहा है। वहीं, हिरासत में रखे गए लोगों के परिजनों, पश्चिमी सरकारों और मानवाधिकार समूहों का कहना है कि यह दमन की एक सोची-समझी साजिश है जिससे धार्मिक अल्पसंख्यकों को इस्लाम से दूर किया जा सके।

You might also like
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed.

%d bloggers like this: