Jan Sandesh Online hindi news website

यहां हर 35 दिन में मनाया जाता है एक ‘सेक्स फेस्टिवल’, जमा होते हैं सैकड़ो लड़के-लड़कियां

इंडोनेशिया के जावा के एक गांव सोलो में माउंट केम एक ऐसी रहस्यमयी जगह है, इस जगह को सेक्स माउंटेन के नाम पर भी जाना जाता है। ये जगह न केवल खूबसूरत है, बल्कि यहां होने वाली रस्म की वजह से भी ये दुनिया के लिए कौतूहल का विषय है। सुनकर आपको भरोसा नहीं होगा कि इंडोनेशिया के जावा में हर 35 दिन में एक सेक्स फेस्टिवल मनाया जाता है. यहां सैंकड़ो लड़के-लड़कियां जमा होकर अजनबियों संग शारीरिक संबंध बनाते हैं. जिस जगह पर ये लोग जमा होते हैं उसका नाम गुनुंग केमुकस है। ये इंडोनेशिया में सेक्स के पहाड़ यानी सेक्स हिल के नाम से भी जाना जाता है।

इस आयोजित होने वाले फेस्टिवल में अनजान साथी के साथ सेक्स करने से एक-दूसरे की मनचाही मुरादें पूरी होती हैं। ऐसा मानना है यहां के लोगों का। साथ ही निजी जीवन में भी उनके परिवार में खुशियां बनी रहती हैं। इसलिए दुनियाभर से लोग इस फेस्टिवल को एंजॉय करने के लिए यहां आते हैं, आइए जानते है आखिर कहां और क्यूं ये फेस्टिवल मनाया जाता हैं।

और पढ़ें
1 of 108
Photo Credit- Social Media

यहां लोग इस फेस्ट को मनाने का अजीबोगरीब कारण बताते हैं जिसे जानकर आपको भी अचंभा होगा। इंडोनेशिया में मनाए जाने वाले इस सेक्स फेस्ट के पीछे उनकी मान्यता है कि ऐसा करने से उनकी तकदीर संवर जाएगी। मान्यता है । 16वीं शताब्दी के राजकुमार समुद्रो अपनी प्रेमिका जो उसकी सौतेली मां थी के साथ शारीरिक संबंध बनाते हुए पकड़ा गया था जिसके बाद उसकी हत्या कर दी गई थी के अवशेष यहां रखे है।

Photo Credit- Social Media

उन दोनों की लाश इसी पहाड़ी पर दफ्न हैं। इस प्रथा पर अध्य्यन कर रहे सामाजिक मनोविज्ञानी कहते हैं कि, यहां आने वाले लोग एक तीर्थयात्री के तौर पर यहां आते हैं जिनका मानना है कि यदि वे यहां अपनी कामुकता का प्रदर्शन करेंगे तो उनकी तकदीर संवर जाएगी। जानकर आपको जरूर अजीब लगा होगा लेकिन यहां आने वाले लोगों का ऐसा ही सोचना है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.