Jan Sandesh Online hindi news website

इराक में मिले 2000 ईसा पूर्व के भगवान राम के हनुमान भित्तिचित्र

तेहरान । अयोध्या शोध संस्थान ने दावा किया है कि इराक दरबंद ई बेजुला चटटान में मिले भित्ति चित्र भगवान राम की ही छवि है। ये भित्तिचित्र इराक के होरेन शेखान क्षेत्र में संकरे मार्ग से गुजरने वाले रास्ते पर दरबंद-ई-बेलुला चट्टान में बना मिला।  इसी साल जून में इराक गए भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने यहां एक [...]

तेहरान । अयोध्या शोध संस्थान ने दावा किया है कि इराक दरबंद ई बेजुला चटटान में मिले भित्ति चित्र भगवान राम की ही छवि है। ये भित्तिचित्र इराक के होरेन शेखान क्षेत्र में संकरे मार्ग से गुजरने वाले रास्ते पर दरबंद-ई-बेलुला चट्टान में बना मिला।  इसी साल जून में इराक गए भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने यहां एक पहाड़ी के ऊपर भगवान राम की छवि होने का दावा किया है। यह दावा वहां मौजूद 2000 ईसा पूर्व के एक भित्तिचित्र को देखकर किया जा रहा है।

इस भित्तिचित्र में एक नंगी छाती वाले राजा को दिखाया गया है, जो धनुष पर तीर ताने हुए है। उसकी कमर के पट्टे में एक खंजर और तलवार लगी है। इतना ही नहीं इस छवि के अलावा हथेलियों के साथ एक दूसरी छवि भी नजर आती है। अयोध्या शोध संस्थान के निदेशक योगेंद्र प्रताप सिंह का कहना है कि यह हनुमान की छवि है. उन्होंने कहा कि चित्र में बने राजा और बंदर, भगवान राम और हनुमान हैं।

और पढ़ें
1 of 232

हालांकि इराक के पुरातत्वविद और इतिहासकार ने इसे भगवान राम छवि होने से इनकार कर रहे है। उनका कहना है कि यह भित्तिचित्र पहाड़ी जनजाति के प्रमुख टार्डुनी को दर्शाती है। आपको बता दें कि इसी साल जून के महीने में भारतीय राजदूत प्रदीप सिंह राजपुरोहित की अगुआई में एक प्रतिनिधिमंडल इराक गया था। इसके लिए संस्कृति विभाग के अंतर्गत आने वाले अयोध्या शोध संस्थान ने अनुरोध किया था।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.