Jan Sandesh Online hindi news website

चौंकाने वाला खुलासा : टैम्पो चालक की झुग्गी में जीएसटी का छापा, 200 करोड़ बकाया, अधिकारी भी हैरान !

भरुच।  गुजरात के भरुच में स्टेट सर्विस एंड गुड्स टैक्स (SGST) की छापेमारी से टेंपो चालक और उनका परिवार भी हक्का-बक्का रह गए।  जिले में जीएसटी विभाग की टीम ने टैक्स चोरी के शक में एक टेंपो चालक के घर छापेमारी है।जीएसटी अधिकारियों ने 200 करोड़ रुपये की टैक्स चोरी के मामले में सुरेश गोहिल नाम के टेंपो ड्राइवर के घर छापा मारा।   दरअसल सुरेंद्र भरुच में टेंपो चलाकर किसी तरह अपने परिवार का गुज़ारा करते हैं। उनकी रोज की कमाई करीब 200 रुपये होती है. ऐसे में जब जीएसटी विभाग की ऐसी कार्रवाई ने उसे हैरान कर दिया. काफी देर तक सर्च ऑपरेशन चलाने के बाद अधिकारियों को सुरेश के घर से कुछ भी नहीं मिला।

टेंपो चलाकर घर का पालन-पोषण करने वाले सुरेश टूटे हुए मकान में रहते हैं।  बारिश होने पर उन्हें और उनके परिवार को टपकती छत के नीचे रहना पड़ता है।  जीएसटी विभाग के अधिकारियों ने बताया कि सुरेश किसी गोहिल कंसल्टेंट कंपनी का मालिक है।  उसकी कंपनी ऑनलाइन रजिस्टर्ड है।

और पढ़ें
1 of 717

इतना ही नहीं उसकी कंपनी ने 200 करोड़ रुपये का टैक्स नहीं भरा है।  हालांकि सुरेश गोहिल के घर छापेमारी में अधिकारियों को कुछ भी नहीं मिला. बता दें जीएसटी के अधिकारियों ने ये छापेमारी जिन दस्तावेजों के चलते की थी उन पर इसी टेंपो ड्राइवर की डीटेल्स थी।

अब ये अधिकारी इस बात की जांच कर रहे हैं कि आखिर गोहिल कंसल्टेंट कंपनी का असली मालिक कौन है और उसके पास इस टेंपो ड्राइवर के कागज़ कहां से आए।  मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सुरेश गोहिल का कहना है कि उसने तीसरी क्लास तक पढ़ाई की है और उसे जीएसटी का मतलब तक नहीं पता है. बता दें कुछ समय पहले उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले से इसी तरह का एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ था।

यूपी में यहां वाणिज्य कर विभाग की टीम ने जांच में एक छोटे से कचौड़ी व्यापारी के 60 लाख सालाना टर्न ओवर होने के मामले का खुलासा किया था. विभाग को शक था कि उसका सालाना टर्न ओवर एक करोड़ के भी पार हो सकता है, जिसे बाद दुकानदार को नोटिस जारी कर दिया गया था।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.