Jan Sandesh Online hindi news website

UP में अपराधियों की हरकतें चरम पर और सरकार सवालों पर झूठ बोल रही: प्रियंका गांधी

नई दिल्ली/लखनऊ : कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार के नेता प्रदेश में लगातार बढ़ते अपराध पर मेरे Tweets का कुछ भी झूठ मूठ जवाब दे दें लेकिन मगर पुरानी कहावत है कि हाथ कंगन को आरसी क्या, पढ़े लिखे को फ़ारसी क्या। उन्होंने आरोप लगाया कि यूपी में अपराधियों की हरकतें चरम पर हैं जबकि सरकार इससे जुड़े सवालों पर झूठ बोल रही है। प्रियंका ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए तो बीजेपी ने कहा कि पहले प्रियंका गांधी यूपी आएं फिर सोच-समझकर टिप्पणी करें।

प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, यूपी सरकार के नेता प्रदेश में लगातार बढ़ते अपराध पर मेरे ट्वीट का कुछ भी झूठ-मूठ जवाब दे दें, मगर पुरानी कहावत है- हाथ कंगन को आरसी क्या, पढ़े लिखे को फारसी क्या। उत्तर प्रदेश में अपराधियों के कारनामे चरम पर हैं और जनता पूछ रही है कि ऐसा क्यों? प्रियंका के इस बयान पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रदेश प्रवक्ता चन्द्र मोहन ने कांग्रेस कहा, प्रियंका को जमीनी सच मालूम नहीं है इसीलिए ऐसी टिप्पणी कर रही हैं। पहले उन्हें उत्तर प्रदेश आना चाहिए। फिर सोच-समझकर टिप्पणी करनी चाहिए।
चन्द्रमोहन ने कहा, यूपी में संगठित अपराध को पुलिस ने खत्म कर दिया है। कानून-व्यवस्था के लिए चुनौती बन रहे लोगों को पुलिस जवाब दे रही है। राज्य में व्यापारी, छात्राएं सभी सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश का दौरा करने के बाद ही टिप्पणी करनी चाहिए, ताकि उन्हें यहां की हकीकत और सुचारु कानून-व्यवस्था का पता चलेगा।

और पढ़ें
1 of 418

प्रियंका गांधी लोकसभा चुनाव के बाद से लगातार यूपी सरकार पर अलग-अलग मुद्दे को लेकर हमले कर रही हैं। इससे पहले प्रियंका ने अनुदेशकों के मामले में सरकार पर हमला बोला था। उन्होंने एक अखबार में छपी खबर पर ट्वीट किया था, प्रदेश की बीजेपी सरकार अनुदेशकों के ऊपर अत्याचार किए जा रही है। 17,000 रुपये प्रतिमाह वेतनमान का वादा पूरा करना तो दूर अब उनके 8,470 रुपये मानदेय में से भी कटौती कर रही है। क्या यूपी सरकार के पास इस धोखेबाजी का कोई जवाब है?

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.