Jan Sandesh Online hindi news website

दो दिन से लापता 4 साल के मासूम का शव घर के समीप जली अवस्था में मिला

भोपाल।  दो दिन से लापता 4 साल के बच्चे का जला हुआ शव मंगलवार को पुलिस ने बरामद किया। बताया जाता है कि जिस मकान से बच्चे का जला हुआ शव बरामद हुआ है. वो काफी सालों से बंद था. मकान के पीछे के हिस्से का दरवाजा खोलकर अंदर शव को जलाया गया है।

एमपी की राजधानी भोपाल के बैरागढ़ चीचली इलाके से दो दिनों पूर्व रविवार 14 जुलाई की शाम को घर के सामने से खेलते हुए किडनेप हुए 3 साल के मासूम वरुण का शव आज मंगलवार की दोपहर बाद घर के समीप जली अवस्था में मिला, जिसके बाद हड़कम्प मच गया. क्षेत्र में तनाव फैल गया. डीजी वीके सिंह सहित वरिष्ठ पुलिस अधिकारी भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और जांच कर रहे थे।

और पढ़ें
1 of 905

इस मामले में पुलिस को बड़ी लापरवाही सामने आई है. जिस दिन बच्चा अगवा हुआ था. पुलिस ने घर के सामने के मकान की ठीक से तलाशी नहीं ली थी. शुरुआती जांच में बच्चे के साथ दुष्कर्म की भी आशंका जताई जा रही है. घटना के बाद प्रदेश के डीजीपी वीके सिंह भी बैरागढ़ के चीचली गांव पहुंचे।

बच्चे का शव मिलने के बाद आईजी योगेश देशमुख के साथ ही भोपाल डीआईजी इरशाद वली मौके पर पहुंचे हैं और जांच से जुड़ी जानकारी ले रहे हैं. वहीं डॉग स्क्वॉड भी मौके पर पहुंच गया है. जिस घर के अंदर से बच्चे का शव जली हुई हालत में मिला है. उसके बाहर पैर के निशान भी मिले हैं. ऐसे में पुलिस उस सिरे को पकड़कर अपनी तलाश आगे बढ़ा रही है. इस बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी ट्वीट करके हत्या पर अफसोस जताया है. उन्होंने साफ कर दिया है कि बच्चे के हत्यारे को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

उल्लेखनीय है कि ग्राम बैरागढ चीचली में रहने वाले विपिन मीणा के तीन साल के बेटे वरुण को बीते रविवार शाम को घर के बाहर से खेलते समय अगवा कर लिया गया था। शाम करीब 7 बजे दादा नारायण मीणा से बच्चा टॉफी के लिए दस रुपए लेकर निकला था. उसके दादा वन विभाग में नाकेदार हैं. कोलार थाने में उसकी गुमशुदगी दर्ज करने के बाद एडीशनल एसपी अखिल पटेल के निर्देशन में दो सीएसपी व पांच थानों की टीम ने सर्चिंग शुरू की, लेकिन सोमवार देर रात तक सुराग नहीं मिला था।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

%d bloggers like this: