Jan Sandesh Online hindi news website

MUMBAI में जमींदोज 100 साल पुरानी इमारत, तबाही का मंजर

मुंबई  । जोरदार धमाका और धूल का गुबार… ..इमारत गिरते ही तेज आवाज दूर-दूर तक फैल गई। धूल का गुबार उड़ा। बदहवास लोग सैकड़ों लोगों के साथ ही पुलिस और प्रशासन के अधिकारी भी मौके पर पहुंचे। मूसलाधार बारिश से जूझने के बाद देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के डोंगरी में मंगलवार को एक चार मंजिला इमारत ढह गई। इस हादसे में अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है ।

इमारत के मलबे में 40-50 लोगों के दबे होने की आशंका है। 9 घायलों को मलबे से बाहर निकाला गया है। घायलों को जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

और पढ़ें
1 of 922

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि शुरुआती जानकारी के मुताबिक 15 परिवार अभी भी मलबे में दबे हैं और उन्हें निकालने की कोशिश जारी है। यह बिल्डिंग 100 साल पुरानी है। हमारा पूरा फोकस मलबे में दबे लोगों को बाहर निकालने पर है।

मुंबई के डोंगरी में एक 100 साल पुरानी इमारत ढह गई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई हादसे पर गहरा दुख व्यक्त किया है। PMO के ट्वीट के मुताबिक पीएम मोदी ने कहा, ‘मुंबई के डोंगरी में इमारत ढहने की घटना पीड़ादायक है। मेरी संवेदनाएं उन परिवारों के साथ हैं, जिन्होंने अपनों को खो दिया है। मैं घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं। महाराष्ट्र सरकार, NDRF और स्थानीय प्रशासन राहत एवं बचाव अभियानों में जुटे हुए हैं।’

महाराष्‍ट्र के आवास मंत्री राधाकृष्ण विखे पाटिल ने बताया कि डोंगरी में इमारत गिरने से 10 लोगों की मौत हो गई है। मुंबई के डोंगरी में एक 100 साल पुरानी इमारत ढह गई। संकरी गलियों के बीच बनी यह इमारत पहले से ही जर्जर हालत में थी लेकिन इसमें दुकानें भी चल रही थीं और कई परिवार भी रह रहे थे।

डोंगरी इलाके में केसरबाई नाम की यह चार मंजिला इमारत लगभग सौ साल पुरानी थी। मंगलवार की दोपहर को अचानक इमारत गिर पड़ी और इसमें रह रहे तमाम लोग नीचे दब गए।

इमारत संकरी गली में होने के चलते बचावकार्य में परेशानी आ रही है। गली में फायर ब्रिगेड की गाड़ियां भी नहीं जा पा रही है। ये टीमें पैदल ही घटनास्थल पर पहुंचकर राहत कार्य में जुट गई हैं।

इमारत के नीचे दुकानें बनी थीं और ऊपरी मंजिलों में परिवार रह रहे थे। लोगों ने बताया कि इमारत का आधा हिस्सा जर्जर था, जिसके गिरने की आशंका पहले से ही थी लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई।

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने बताया है कि मलबे में करीब 15 परिवार दबे गए। मौके पर एनडीआरएफ, फायर ब्रिगेड और ऐंबुलेंस लोगों की जान बचाने में जुट गए। वहीं, तबाही का मंजर देख लोग बदहवास रहे और अपनों की सलामती की दुआ करते रहे।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

%d bloggers like this: