Jan Sandesh Online hindi news website

आवारा पशुओं की आवा जाही से राहगीरों को मुश्किल

कलायत । गलियों व सड़कों पर लगातार बढ़ रहा गौवंश इस समय पूरी तरह परेशानी का सबब बना हुआ है। जैसे-जैसे दिन ढलने लगता है उसके साथ ही सड़कों व गलियों में गौवंश की सख्या इस कद्र बढऩे लग जाती है कि कहीं से भी जहां निकलने का रास्ता नहीं रहता वहीं हर समय दुर्घटना का आलम भी बना रहता है।

कैलाश गुप्ता, तरूण कुमार, भोला राम, नरेंद्र राणा, अनिल कुमार, छोटू राम सहित दूसरे लोगों का कहना है कि सरकार द्वारा गौवंश के रखरखाव व देखभाल के दावे तो काफी किए जा रहे है मगर गाय माता या दूसरा गौवंश जब इस प्रकार सड़कों पर घूम जहां स्वयं कष्टी झेल रहा है वहीं लोगों को भी परेशान कर रहा है ऐसे में यही लग रहा है कि गौवंश के संभाल के लिए विशेष कार्ययोजना कोई है ही नहीं। उन्होंने कहा कि सड़कों व गलियों में घूमने वाले गौवंश के चलते जहां कई लोग घायल हो चुके है वहीं वाहन की टक्कर लगने से गति दिनों रेलवे रोड पर गौवंश की मौत भी हो गई थी। लोगों का कहना है कि गौवंश पूरी तरह सड़क के बीच में बैठता है जिससे आवागमन इस प्रकार बाधित हो जाता है कि इससे ही दुर्घटना का आलम बन जाता है।

और पढ़ें
1 of 6

प्रशासन से आग्रह किया कि गलियों व सड़कों पर घूमने वाले गौवंश तथा आवारा पशुओं पर नकेल डाल समस्या से निजात दिलाई जाए। मुढाढ गौशाला 360 के प्रधान योगेश गर्ग ने कहा कि गौशाला प्रबंधन समिति द्वारा पूर्व में भी कई बार गौवंश को पकड़ गौशाला में ले जाया जा चुका है जिसके पश्चात नगर की गलियों व सड़कों में कहीं भी गौवंश नहीं रहा था। मगर न जाने गौवंश कौन छोड रहा है क्योंकि कुछ माह बाद ही फिर सड़कों पर गौवंश दिखाई देना शुरू हो जाता है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.