Jan Sandesh Online hindi news website

लगाया चार करोड़ का चूना फर्जी कंपनी बनाकर वाणिज्य कर को

झरिया थाने को दी गई शिकायत में वाणिज्यकर उपायुक्त पुष्पलता ने कहा है कि श्रीराम कोल ट्रेडिंग कंपनी के नाम पर जीएसटी नंबर जीएसटीआईएन 20 सीके एसपीएम 53349ए229 लिया गया। इसके मालिक अजीत कुमार मिश्रा पिता मनमोहन मिश्रा हैं। व्यवसाय का स्थल राजेश सिंह, झरिया कतरास मोड़, आवासीय पता पश्चिमी कोइरीबांध बताया गया है। व्यवसायी के पते पर काफी पड़ताल की गई। वहां अजीत मिश्रा की कोई जानकारी नहीं मिली। और न ही प्रतिष्ठान के संबंध में कुछ पता चल पाया। संबंधित पते पर कंपनी को कोई बोर्ड भी नहीं लगाया गया है। इससे लग रहा है कि कर घोटाला करने के लिए गलत तथ्य देकर फर्जी तरीके से कागजात हासिल किए गए हैं।

फर्जी कागजात के आधार पर जीएसटी नंबर हासिल करने और फर्जी जीएसटी नंबर से आठ महीने में लगभग चार करोड़ रुपए के करवंचना का मामला सामने आया है। इस मामले में वाणिज्यकर विभाग के राज्य कर उपायुक्त झरिया अंचल पुष्पलता कुमारी और मंजू शोभा एक्का ने झरिया थाना में दो फर्जी ट्रांसपोर्ट कंपनी के खिलाफ अलग-अलग मामला दर्ज कराया है। पुष्पलता ने श्री राम कोल ट्रेडिंग नामक कंपनी के संचालक अजीत कुमार मिश्रा पर दो करोड़ 75 लाख 680 रुपया और मंजू शोशा एक्का ने जानकी कोल ट्रेडर्स के हरेन्द्र सिंह, पिता रास बिहारी सिंह के खिलाफ 78 लाख 309 रुपये से अधिक की कर वंचना करने की शिकायत की है। शिकायत मिलने के बाद पुलिस छानबीन में जुटी है।

यह है मामला :

और पढ़ें
1 of 47

झरिया थाने को दी गई शिकायत में वाणिज्यकर उपायुक्त पुष्पलता ने कहा है कि श्रीराम कोल ट्रेडिंग कंपनी के नाम पर जीएसटी नंबर जीएसटीआईएन 20 सीके एसपीएम 53349ए229 लिया गया। इसके मालिक अजीत कुमार मिश्रा पिता मनमोहन मिश्रा हैं। व्यवसाय का स्थल राजेश सिंह, झरिया कतरास मोड़, आवासीय पता पश्चिमी कोइरीबांध बताया गया है। व्यवसायी के पते पर काफी पड़ताल की गई। वहां अजीत मिश्रा की कोई जानकारी नहीं मिली। और न ही प्रतिष्ठान के संबंध में कुछ पता चल पाया। संबंधित पते पर कंपनी को कोई बोर्ड भी नहीं लगाया गया है। इससे लग रहा है कि कर घोटाला करने के लिए गलत तथ्य देकर फर्जी तरीके से कागजात हासिल किए गए हैं। व्यवसायी द्वारा विभाग से निबंधन प्राप्त करने के क्रम में कुछ सूचनाएं ऑनलाईन अपलोड की गई है। जिसमें पैन नम्बर सीकेएसटीएम5349ए, बैंक खाता स्टेट बैंक झरिया बाजार शाखा, संख्या 34799533991 और मोबाइल नम्बर 7545025727 और व्यवसाय स्थल किराया से संबंधित एकरारनामा बताया गया है। व्यवसायी ने 1 सितंबर 2017 से कोयला के व्यवसाय के लिए निबंधन कराया है। व्यवसाय की विस्तृत जांच विभागीय पोर्टल पर 30 जनवरी 19 को किया गया। व्यवसायी ने मार्च 2018 तक अपने जीएसटी में शून्य दर्शाया है। जबकि नवम्बर 2017 में 2 करोड़ 75 लाख 680 रुपया दर्शाया गया है। जानकी कोल ट्रेडर्स के खिलाफ भी यही आरोप है। दोनों व्यवसायियों का पता नहीं चल रहा है। दोनों का खाता एसबीआई झरिया बाजार शाखा में है।

झुग्गी झोपड़ी वाले हो गये अरबपति
पुलिस दोनों के बारे में पता करने में जुटी हुई है। चर्चा है कि झरिया कतरास मोड़ पर पिछले कुछ वर्षों से फर्जी कागजात पर करोड़ों का कारोबार हो रहा है। सभी कारोबार कोयला से जुड़ा है। झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले अरबपति बन गये हैं। राजनीतिक संगठन से जुड़कर लोग अपने काले धंधे को सफेद कर रहे हैं। ऐसे लोग ही फर्जी नाम से करोड़ों का चूना लगा चुके हैं। कई ऐसे भी लोगों के नाम पर धंधा चला रहे हैं जिनको पता तक नहीं है। कुछ लोगों को पता भी चला है तो उनको दबाने की कोशिश की जा रही है। पुलिस जांच करे तो अरबों का मामला उजागर होगा।

इन धाराओं के तहत हुआ है मामला दर्ज:
दोनों के खिलाफ झरिया थाना कांड संख्या 202/19 और 203/19 में भादवि की धारा 419, 420, 406, 468, 471, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

रंधीर कुमार, झरिया इंस्पेक्टर: वाणिज्यकर विभाग की शिकायत पर मामला दर्ज हुआ है। आरोपी ट्रांसपोर्ट संचालकों का पता लगाया जा रहा है। साईबर सेल की भी मदद ली जायेगी।

विजय कुमार दुबे, संयुक्त आयुक्त वाणिज्यकर : मामला मेरे संज्ञान में नहीं आया है। कल ही बता पाउंगा। संभव है झरिया अंचल द्वारा मामला दर्ज कराया गया हो।

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.