Jan Sandesh Online hindi news website

शिवराज बोले- ‘क्रिमिनल’ थे पंडित जवाहर लाल नेहरू, और बतायी इसकी वजह

भुवनेश्वर । शिवराज ने ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में मीडिया से बातचीत में नेहरू को ‘क्रिमिनल’ कहने की दो वजह बताई। उन्होंने कहा, ‘पहला कारण यह है कि जब भारतीय फौज कश्मीर से पाकिस्तानी कबाइलियों को खदेड़ते हुए आगे बढ़ रही थी, ठीक उसी वक्त नेहरू ने संघर्ष विराम का ऐलान कर दिया।

इस वजह से कश्मीर का एक-तिहाई हिस्सा पाकिस्तान के कब्जे में रह गया। यदि कुछ दिन और सीजफायर की घोषणा नहीं होती, तो पूरा कश्मीर भारत का होता।’ जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के केंद्र सरकार के फैसले पर सियासी तकरार खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है।

और पढ़ें
1 of 618

कांग्रेस लगातार मोदी सरकार की मंशा पर सवाल उठा रही है तो बीजेपी भी पलटवार करने से बिल्कुल नहीं चूक रही है। अब मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आर्टिकल 370 पर कांग्रेस को घेरते हुए कहा है कि पूर्व पीएम पंडित जवाहर लाल नेहरू ‘क्रिमिनल’ थे।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता ने कहा कि नेहरू को ‘क्रिमिनल’ कहने के पीछे दूसरी वजह भी ठोस है। उन्होंने बताया, ‘नेहरू ने जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 लागू किया।

भला किसी एक देश में दो निशान, दो विधान (संविधान) और दो प्रधान कैसे अस्तित्व में रह सकते हैं? यह केवल देश के साथ नाइंसाफी नहीं है, बल्कि अपराध भी है।

‘इससे पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जम्मू-कश्मीर के हालात पर गंभीर चिंता जाहिर करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से यह मांग की कि वह देश और जनता को बताएं कि वहां क्या हो रहा है।कांग्रेस कार्यसमिति की दूसरे दौर की बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के बारे में कई खबरें आ रही हैं।

वहां लोग मर रहे हैं। सरकार को वहां की स्थिति के बारे में जवाब देना चाहिए। बता दें कि आर्टिकल 370 हटाने के बाद जम्मू में हालात अब बिल्कुल सामान्य हैं। ऐसे में प्रशासन ने यहां धारा 144 को हटाने का फैसला किया है। कश्मीर के दूसरे हिस्सों में भी हालात काबू में हैं।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.