Jan Sandesh Online hindi news website

उत्तराखंड : पहाड़ी से पत्थर गिरने के बाद लामबगड़ में बंद हुआ हाइवे, बदरीनाथ यात्रा रोकी

जिला आपदा प्रबंध अधिकारी नंद किशोर जोशी ने बताया कि, लामबगड़ में पहाड़ी से लगातार पत्थर गिरने से और नाले का जलस्तर बढ़ने के बाद शनिवार शाम 4:20 बजे बदरीनाथ यात्रा रोक दी गई। बदरीनाथ से लौटने वाले यात्रियों को बदरीनाथ में ही रुकने की सलाह दी गई है। बदरीनाथ जाने वाले करीब छह सौ यात्रियों को गोविन्दघाट गुरुद्वारे, पांडुकेश्वर और जोशीमठ में रोका गया है।

बदरीनाथ हाइवे पर लामबगड़ में पहाड़ी से बोल्डर गिरने और नाले का जलस्तर बढ़ने के बाद शनिवार बदरीनाथ यात्रा रोक दी गई। करीब छह सौ यात्रियों को बदरीनाथ, गोविंदघाट, पांडुकेश्वर और जोशीमठ में रोका गया है।

जिला आपदा प्रबंध अधिकारी नंद किशोर जोशी ने बताया कि, लामबगड़ में पहाड़ी से लगातार पत्थर गिरने से और नाले का जलस्तर बढ़ने के बाद शनिवार शाम 4:20 बजे बदरीनाथ यात्रा रोक दी गई। बदरीनाथ से लौटने वाले यात्रियों को बदरीनाथ में ही रुकने की सलाह दी गई है। बदरीनाथ जाने वाले करीब छह सौ यात्रियों को गोविन्दघाट गुरुद्वारे, पांडुकेश्वर और जोशीमठ में रोका गया है।

और पढ़ें
1 of 12

केदारनाथ हाइवे समेत 71 सड़कें बंद
राज्य में हो रही भारी बारिश के कारण केदारनाथ हाइवे समेत 71 सड़कों पर यातायात ठप हो गया। बारिश और लगातार गिर रहे मलबे के कारण सड़कों को खोलने के काम में बाधा उत्पन्न हो रही है। बांसवाड़ा में लगातार हो रहे भूस्खलन के कारण केदारनाथ हाइवे पर तीसरे दिन भी आवाजाही बंद रही। बारिश से रुद्रप्रयाग में 31, देहरादून में 13, चमोली में 7, बागेश्वर में 6, टिहरी में 6, उत्तरकाशी में 6 और पौड़ी में 4 सड़कें बंद हैं। लोनिवि के प्रमुख अभियंता हरिओम शर्मा ने बताया कि सभी डिवीजनों को प्राथमिकता से सड़कें खोलने को कहा गया है।

सात जिलों में भारी बारिश की चेतावनी
मौसम विभाग ने 48 घंटे में देहरादून, चमोली, टिहरी, पौड़ी, नैनीताल, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी में भारी बारिश की आशंका जताई है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी कर सभी डीएम और आपदा प्रबंधन विभाग को सूचना दे दी गई है।

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.