Jan Sandesh Online hindi news website

नौकरी के नाम पर लाखों की ठगी करनेवाले अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई नही होने से क्षुब्ध पीड़ित 

कमलेश चौधरी की रिपोर्ट 

राजधानी लखनऊ पुलिस की शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है । 

और पढ़ें
1 of 219

यह मामला 22/08/2016 मे मैडीकल कालेज के गैस्ट हाऊस मे कमरा न०(101)व (102) में मेडिकल कॉलेज के प्रभारी संजय खत्री व उनके दोस्त की मिलीभगत से 750000 रूपए  पीड़ित परिवार से ठग लिए गए । पीड़ित कमलेश पुत्र लुखर चौधरी निवासी तकरोही इंदिरानगर लखनऊ का रहने वाला है। प्रार्थी कमलेश लगातार 3 बरस बीतने के बाद भी केजीएमयू के कुलपति महोदय कि यहां गुहार लगा चुका है, और केजीएमयू के गृह सचिव के यहां पर भी शिकायत कर चुका है। तीन बार प्रार्थी एसएसपी लखनऊ व डीजीपी लखनऊ के यहां लिखित रूप से फैक्स के माध्यम से लगातार प्रयास कर रहा है लेकिन पुलिस के अधिकारियों ने पीड़ित के साथ आज तक कोई कार्यवाही नहीं की।

पीड़ित का चौक कोतवाली लखनऊ में मार्च 2016 एफ आई आर दर्ज भी कराई थी जिसमें 420 ई का मुकदमा दर्ज हुआ था ।

लेकिन संजय खत्री द्वारा पैसा देकर चौकी प्रभारी केजीएमयू को मेरे डाक्यूमेंट्स ओरिजिनल कागज गायब करा दिए गए और चौकी प्रभारी के द्वारा आज तक पीड़ित को न्याय नहीं दिला जा सका हैं। इससे साबित होता है कि चौकी प्रभारी संजय खत्री के इशारे पर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को भ्रामक सूचना देते हुए सीओ चौक ने भी कई बार चौकी प्रभारी को तलब किया गया लेकिन चौकी प्रभारी अपनी नाकामियों को छुपाते हुए भ्रामक सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को देते रहे । यदि अधिकारी दोबारा जांच करा देते हैं तो केजीएमयू के सन्जय खत्री का खुलासा हो जाएगा ।और उनके दोस्त आशियाना में रहते हैं जिसके बारे में कई बार पुलिस को अवगत भी कराया गया। तीन के खिलाफ f.i.r. है इनको अरेस्ट करवा दीजिए लेकिन एक बार भी पुलिस ने दोषियों को नहीं पकड़ा और ना ही कोई कार्रवाई की गई। इसलिए प्रार्थी को न्याय की उम्मीद बहुत कम दिखाई देती है। क्योंकि जो अधिकारी से उम्मीद होती है वही अधिकारी भ्रष्टाचार में लिप्त हैं उत्तर प्रदेश सरकार मैं भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है ।

माननीय मुख्यमंत्री जी को कई बार लिखित शिकायत भेजी गई लेकिन वहां पर भी कोई सफलता हासिल नहीं हुई पीड़ित परिवार ने मीडिया का भी सहारा लिया कई समाचार पत्रों में भी निकाला गया लेकिन पीड़ित परिवार को कोई सफलता नहीं मिली। 

पीड़ित परिवार को संजय खत्री द्वारा उनके दोस्त के माध्यम से 550000 की चेक भी दे दी गई लेकिन पीड़ित की सारी चेक बाउंस होने के बाद जब पीड़ित संजय खत्री से मिलता है तो पुलिस का डर दिखा दिखा कर भगा देता है और कहता है जाओ जो मेरा करना है कर लो लेकिन संजय खत्री अपने दोस्तों के बदौलत बचा हुआ है और प्रशासन की मेहरबानी उसके साथ है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.