Jan Sandesh Online hindi news website

Davis Cup: ITF से भारत ने मांगा पूर्ण सुरक्षा का आश्वासन

एलबर्ट ने इस मुकाबले को लेकर एआईटीए को लिखे पत्र में कहा था कि आईटीएफ के लिए खिलाड़ियों की सुरक्षा पहली प्राथमिकता है और मुकाबला इस्लामाबाद में निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ही होगा। यदि एआईटीए आधिकारिक रुप से आईटीएफ को अपनी चिंता से अवगत कराता है तो उसे यह जल्द कर लेना होगा क्योंकि मुकाबला पांच सप्ताह दूर ही है।

अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) ने अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ (आईटीएफ) कार्यकारी निदेशक जस्टिन एलबर्ट को एक पत्र लिखकर इस्लामाबाद में होने वाले डेविस कप मुकाबले को लेकर सुरक्षा इंतजाम के बारे में पूछा है। भारत ने हालांकि मैच का स्थान बदलने की मांग नहीं की है। इस बात की जानकारी एआईटीए के सचिव हिरनमॉय चटर्जी ने दी। चटर्जी ने कहा, “डेविस कप टीम वहां के पहले के सुरक्षा इंतजामात से खुश हैं लेकिन यह कश्मीर मुद्दे के उठने से पहले की बात है। इसलिए अब हमने वहां की सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा करने के लिए पत्र लिखा है।”

एलबर्ट ने इस मुकाबले को लेकर एआईटीए को लिखे पत्र में कहा था कि आईटीएफ के लिए खिलाड़ियों की सुरक्षा पहली प्राथमिकता है और मुकाबला इस्लामाबाद में निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ही होगा। यदि एआईटीए आधिकारिक रुप से आईटीएफ को अपनी चिंता से अवगत कराता है तो उसे यह जल्द कर लेना होगा क्योंकि मुकाबला पांच सप्ताह दूर ही है। एलबर्ट ने साथ ही कहा कि भारत को खिलाड़ियों के वीजा और अन्य तैयारियों को लेकर आवश्यक प्रबंध जारी रखने चाहिए। एलबर्ट के पत्र के जवाब में एआईटीए ने आईटीएफ को पत्र लिखकर कहा है कि आईटीएफ ने इस्लामाबाद में सुरक्षा जांच की है और उसका मानना है कि यह मुकाबला इस्लामाबाद में सुरक्षित आयोजित हो सकता है।

और पढ़ें
1 of 74

इससे पहले चटर्जी ने कहा था कि पाकिस्तान की स्थिति भारतीय टीम के लिए खेलने के लिहाज से अनुकूल नहीं है। चटर्जी ने कहा था, “हम दो दिन का इंतजार करेंगे कि स्थिति किस तरह की रहती है और इसके बाद अगर हो सका तो आईटीएफ से बात करेंगे और कोशिश करेंगे कि स्थान बदला जा सके और कोई तटस्थ स्थान पर मैच कराया जाए। इस समय स्थिति खिलाड़ियों के लिहाज से अच्छी नहीं है कि वो लोग पाकिस्तान जाकर खेल सकें।”

अगर भारत ने खेलने से मना कर दिया तो उस पर हांग कांग की तरह प्रतिबंध लग सकता है जिसने पाकिस्तान में खेलने से इनकार कर दिया था। इसी कारण हांग कांग की टीम निचली डिविजन में चली गई थी। भारतीय टेनिस टीम इससे पहले 1964 में पाकिस्तान गई थी और वहां 4-0 से जीत हासिल की थी।

इस मुकाबले का ड्रॉ फरवरी में आ गया था और तभी पुलवामा में आतंकवादी हमला हुआ था। इसलिए इस तरह की चर्चा तभी से हो रही थी कि भारत पाकिस्तान जा कर खेलेगा या नहीं।

लेकिन जब आईटीएफ ने पाकिस्तान को मैच की मेजबानी सौंपी तो एआईटीए ने खिलाड़ियों को चुनने की प्रक्रिया शुरू कर दी। खेल मंत्रालय ने भी भारत के पाकिस्तान जाकर खेलने के रास्ते को साफ कर दिया है। दोनों टीमें डेविस कप में 2006 से नहीं भिड़ी हैं।

बता दें कि भारत को 14 और 15 सितंबर को इस्लामाबाद में पाकिस्तान के खिलाफ एशिया ओसनिया जोन ग्रुप ए का मुकाबला खेलना है। इसके लिए भारतीय टीम की घोषणा की जा चुकी है। लेकिन कश्मीर से संविधान के अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद दोनों देशों के संबंधों में फिर से कड़वाहट आ गई है जिसके बाद भारत का 55 साल बाद पाकिस्तान का दौरा अधर में अटक गया है।

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.