Jan Sandesh Online hindi news website

रूस ने दी अंतिम विदाई रॉकेट विस्फोट में मारे गए पांच परमाणु इंजीनियरों को

रक्षा मंत्रालय ने अपनी प्रारंभिक रिपोर्ट में कहा था कि न्योनोक्सा गांव के निकट नौसैनिक परीक्षण स्थल में हुए विस्फोट में दो लोग मारे गए हैं और छह लोग घायल हुए हैं। बाद में सरकारी रोसाटोम परमाणु निगम ने अपने पांच कर्मियों के मारे जाने की जानकारी दी। हालांकि, अब भी हताहतों की संख्या स्पष्ट नहीं है।  नजदीकी 1,83,000 आबादी वाले सेवरोदविंस्क शहर के अधिकारियों ने विस्फोट के बाद विकिरण के स्तर में बढ़ोतरी की बात कही साथ ही कहा कि इससे स्वास्थ्य को कोई खतरा नहीं है। वहीं रक्षा मंत्रालय का दावा है कि कोई विकिरण नहीं फैला है। इन सब के बीच स्थानीय लोग आयोडाइड खरीदने लगे हैं। यह विकिरण के संपर्क में आने से पहुंचे नुकसान को कम करता है।

मॉस्को। रूस में नए रॉकेट इंजन के परीक्षण के दौरान हुए विस्फोट में मारे गए पांच परमाणु इंजीनियरों का अंतिम संस्कार किया गया,जिसमें हजारों की संख्या में लोग शामिल हुए। हालांकि, इस घटना ने विकिरण फैलने के खतरे और गोपनीय तरीके से चलाए जा रहे हथियार कार्यक्रम पर सवाल खड़े कर दिए हैं। गत गुरुवार मारे गए इंजीनियरों का अंतिम संस्कार सोमवार को सारोव में किया गया। इस स्थान पर ही रूस का प्रमुख परमाणु हथियार अनुसंधान केन्द्र हैं और ये लोग यहीं काम करते थे।

रक्षा मंत्रालय ने अपनी प्रारंभिक रिपोर्ट में कहा था कि न्योनोक्सा गांव के निकट नौसैनिक परीक्षण स्थल में हुए विस्फोट में दो लोग मारे गए हैं और छह लोग घायल हुए हैं। बाद में सरकारी रोसाटोम परमाणु निगम ने अपने पांच कर्मियों के मारे जाने की जानकारी दी। हालांकि, अब भी हताहतों की संख्या स्पष्ट नहीं है।  नजदीकी 1,83,000 आबादी वाले सेवरोदविंस्क शहर के अधिकारियों ने विस्फोट के बाद विकिरण के स्तर में बढ़ोतरी की बात कही साथ ही कहा कि इससे स्वास्थ्य को कोई खतरा नहीं है। वहीं रक्षा मंत्रालय का दावा है कि कोई विकिरण नहीं फैला है। इन सब के बीच स्थानीय लोग आयोडाइड खरीदने लगे हैं। यह विकिरण के संपर्क में आने से पहुंचे नुकसान को कम करता है।

और पढ़ें
1 of 271

सेवरोदविंस्क शहर प्रशासन ने कहा है कि गुरुवार को करीब 30 मिनट के लिए विकिरण का स्तर बढ़ कर 2 माइक्रोसीवर्ट प्रति घंटा हो गया था, जो बाद में क्षेत्र के सामान्य स्तर 0.1माइक्रोसीवर्ट प्रति घंटे पर लौट आया। आपात अधिकारियों ने सभी कर्मचारियों को घरों के अंदर रहने और खिड़कियां बंद रखने को कहा है। रूस में पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाले संगठनों ने सरकार से विकिरण के फैलने संबंधी रिपोर्ट जारी करने की मांग की है, लेकिन इस पर उन्हें कोई जवाब नहीं मिला है।

 

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

%d bloggers like this: