Jan Sandesh Online hindi news website

73वें स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले से बड़ा ऐलान, जानें उनके भाषण की बड़ी बातें

नई दिल्ली। स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त के मौके पर तिरंगा फहराने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन की शुरूआत नीलकुरंजिनी के पौधे से की। पीएम मोदी ने कहा कि आज हर भारतीय को इस बात पर गर्व है कि हम विश्व की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है।ं

और पढ़ें
1 of 671

पीएम मोदी ने तमिल कवि सुब्रमण्यम भारती की कविता की पंक्तियों को दोहराते हुए कहा कि भारत न सिर्फ एक महान राष्ट्र के रूप में उभरेगा बल्कि दूसरों को भी प्रेरणा देगा। हम चाहते हैं कि दुनिया में भारत की साख और धाक दोनों हो।

पीएम मोदी ने भारतीय सेना को लेकर बड़ी घोषणा की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहा कि देश की थल, जल और वायु सेना एक साथ आगे बढ़ें और तीनों सेनाओं के बीच सामंजस्य बेहतर हो, इसके लिए तीनों सेनाओं के प्रभावी नेतृत्व की व्यवस्था की गई ह। पीएम मोदी ने कहा कि तीनों सेनाओं के तालमेल बढ़ाने के लिए एक सेनापति बनाया होगा जिसे ”चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ” कहा जाएगा।

वहीं लाल किले से देश को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि अब हमें डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देना चाहिए. आज भी जब हम गांव में जाते हैं तो वहां दुकानों पर बोर्ड लगा होता है कि “आज नकद, कल उधार.” पीएम मोदी ने आगे कहा कि अब इसकी जगह ”डिजिटल पेमेंट को हां, नकद को ना” का बोर्ड हमे लगाना चाहिए।

PM MODI

साल 2014 से पहले दुनिया की कई संस्थाएं और प्रख्यात अर्थशास्त्री भारत के लिए कहते थे कि हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था में बहुत जोखिम है।

वही लोग आज हमारे सुधारों की तारीफ कर रहे हैं. वह लोग अब भारत को निवेश के लिए बेहतर देश बता रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि 2014 के बाद से वह अभी तक अनुभव कर रहे हैं कि सवा सौ करोड़ देशवासी सिर्फ सरकार बनाकर रुके नहीं, वो देश बनाने में जुटे हैं।

देश की अपेक्षाएं और आवश्यकताएं बहुत हैं और उसे पूरा करने के लिए केंद्र और राज्य सरकार को निरंतर प्रयास करना है।
पीएम मोदी ने संसद के मॉनसून सत्र का भी जिक्र करते हुए कहा कि मॉनसून सत्र पूरी तरह से सामाजिक न्याय को समर्पित था।

इसमें दलित, शोषित, पीड़ित वंचित वर्ग के हितों पर संवेदनशीलता का परिचय दिया गया और ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने संबंधी विधेयक पारित हुआ।

पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जिक्र करते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर के लिए अटल जी ने कहा था- इंसानियत, कश्मीरियत, जम्हूरियत। मैंने भी कहा है, जम्मू-कश्मीर की हर समस्या का समाधान गोली से नहीं बल्कि गले लगाकर ही किया जा सकता है. हमारी सरकार जम्मू-कश्मीर के सभी वर्गों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है।

पीएम मोदी ने कहा कि जन-जन को आरोग्य की सुविधा मुफ्त में मिले, इसके लिए ‘प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान’ के तहत जल्द ही 10 करोड़ परिवारों यानी करीब 50 करोड़ लोगों को 5 लाख रुपये का बीमा कवर देने का फैसला किया गया है।

पीएम मोदी ने अपने भाषण में मुस्लिम महिलाओं की आजादी का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि तीन तलाक के कारण मुस्लिम महिलाओं के साथ अत्याचार हो रहा है। इस कुप्रथा को खत्म करने के लिये हमारी सरकार प्रयासरत है लेकिन कुछ लोग इसे खत्म नहीं करने देना चाहते हैं।

वह मुस्लिम बहनों को विश्वास दिलाते हैं कि हम उन्हें न्याय दिलाने के लिये पूरा प्रयास करेंगे। साल 2022 से पहले ही भारतीय वैज्ञानिकों ने मानव सहित गगनयान लेकर अंतरिक्ष में तिरंगे के साथ जाने का संकल्प लिया है।

ऐसा होने की दशा पर भारत इस उपलब्धि को हासिल करने वाला दुनिया का चैथा देश होगा। आजादी के 75 साल पूरे होने पर 2022 तक भारत का बेटा या बेटी तिरंगे के साथ अंतरिक्ष में जरूर जाएगी। युवाओं को काबिल बनाने की दिशा में पीएम मोदी ने मुद्रा लोन योजना का जिक्र करते हुए कहा कि देश में अभी तक 13 करोड़ मुद्रा लोन दिए जा चुके हैं।

इनमें से 4 करोड़ वह लोग हैं जिन्होंने कभी पहले लोन नहीं लिया था। युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने में भारत सरकार की इस योजना का बहुत बड़ा योगदान है। अपना भाषण के अंत में पीएम मोदी ने एक कविता सुनाई।

उन्होंने कहा- ‘अपने मन में एक लक्ष्य लिए, मंजिल अपनी प्रत्यक्ष लिए हम तोड़ रहे हैं जंजीरें। हम बदल रहे हैं तस्वीरें. ये नवयुग है. नव भारत है। खुद लिखेंगे अपनी तकदीरें. हम निकल पड़े हैं प्रण करके, अपना तन-मन अर्पण करके, जिद है एक सूर्य उगाना है। अम्बर से ऊंचा जाना है. एक भारत नया बनाना है, एक भारत नया बनाना है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.